Tuesday, September 7, 2010

घर



ईंट,सीमेंट
   और गारे से   
 मकान तो बन जाता है
  लेकिन घर नहीं बनता है 


घर बनाने के लिए
चाहिए प्रेम रूपी सीमेंट
विश्वाश रूपी ईंट और
त्याग रूपी गारा 

इनमे से अगर एक भी
कमजोर हो जाये तो
घर बिखरने में
    देर नहीं लगती।     

कोलकत्ता
६ सितम्बर, २०१०

No comments:

Post a Comment