Monday, October 26, 2015

अतीत की गलियों में

मैंने तुमसे प्रेम किया 
तुमने मुझ से प्रेम किया 
हम दोनों ने एक दूजे से 
प्रेम किया। 

मैंने सौगात में तुम्हें
एक नदी दी 
तुमने मुझे पूरा समुद्र
दे दिया। 

मैंने सौगात में तुम्हें
कुछ तारे दिए 
तूमने मुझे पूरा आकाश 
दे दिया। 

मैंने सौगात में तुम्हें
कुछ दिशाए दी 
तुमने मुझे पूरा ब्रमांड 
दे दिया। 

मैंने सौगात में तुम्हें 
चंद बूंदे दी 
तुमने झूम कर 
मुझे पूरा सावन दे दिया। 

 मेरे मन में तुम्हारी यादें 
उसी तरह अंकित है 
जैसे किसी शिलालेख पर 
रह जाता है फरमान खुदा। 

No comments:

Post a Comment