Saturday, June 23, 2018

गांव बदल गया है

गांव में
गोबर, पूस से बने
कच्चे-पक्के मकान
अब नजर नहीं आते

पनघट पर
बनी-ठनी पनिहारिनों की
हंसी-ठिठोली
अब नजर नहीं आती

चौपाल पर
चिलम-बीड़ी के साथ
लम्बी-चौड़ी बहस
अब नजर नहीं आता

सांझ-सवेरे
गायों का दूध निकालना
चक्की से आटा पीसना
अब नजर नहीं आता

खेतो में
चौपायों का चरना
अलगोजो पर मूमल
ऊन कातता ढेरिया
अब नजर नहीं आता

गांव न तो गांव रहा
न शहर बन सका
गांव बदल गया है।












वो मेरे जीवन में आई

वो मेरे जीवन में आई
पचास वर्ष तक
प्रेम बेली लिपटाती रही
अचानक चली भी गई
मैं पलकें झपकाता रहा
टूटते तारों को देखता रहा। 

Thursday, May 31, 2018

जिंदगी का मजा तो आ ही गया

मैंने चारों बेटों के यहाँ, एक-एक गेस्ट रूम बनवा दिया
तीन-तीन महीने मेहमान बनना, मुझे भी तो भा ही गया।

बहुत खुश हूँ ढलती उम्र में, बेटो - बहुओं के संग रह
जिन्दगी का एक नया तराना, मुझे भी तो भा ही गया।

चली गई वो जिंदगी की राह में, मुझे एकेला छोड़ कर
मगर दर्द को मुट्ठी में दबा, जीना मुझे भी आ ही  गया।

दिन गुजरते गए, रातें बीतती गई, जिंदगी चलती रही
मुझे भी यादों के सहारे, दिल बहलाना तो आ ही गया।

साथ छूट गया, मगर हमारे प्यार में कोई कमी नहीं आई
कविता के बहाने ही सही, मिलने का सहारा आ ही गया।

यह अलग बात है कि हम, साथ नहीं रह सके जिंदगी भर
मगर जितने दिन भी रहे, जिंदगी का मजा तो आ ही गया।



Friday, May 25, 2018

और तुम आ जाओ

घनघोर घटा हो
रिमझिम बरसात हो
मेरा मन भीगने का हो
और तुम आ जाओ।

चांदनी रात हो
गंगा का घाट हो
नौका में मांझी हो
और तुम आ जाओ।

मंजिल दूर हो
पांव थक कर चूर हो
किसी का साथ न हो
और तुम आ जाओ।

आँखों में नींद हो
ख्वाबों में तुम हो
सपने का टूटना हो
और तुम आ जाओ।

मौसमें बहार हो
मिलने की चाहत हो
पलकों फूल बिछे हो
और तुम आ जाओ। 







Thursday, May 17, 2018

हमें भी याद कर लेना

आँखों ही आँखों से,  इशारों की बात आए
घूँघट से झांक कर, हमें भी याद कर लेना।

ख़्वाबों में कभी,  हसीन चेहरा नजर आए
 थोड़ा मुस्कराकर,  हमें भी याद कर लेना।

बन संवर कर, कभी आईने के सामने जाओ
 खुद से शरमा कर,  हमें  भी याद कर लेना।

राहे सफर में, अगर चलते-चलते थक जाओ
 थोड़ी देर सुस्ता कर,  हमें भी याद कर लेना।

चाँद-सितारों की महफ़िल में, अगर कभी जाओ
थोड़ा  निचे  झांक कर,  हमें  भी  याद कर लेना।

चलो छोड़ो जाने दो, अब हम कभी नहीं रूठेंगे 
 तुम भी नजर अंदाज कर,  हमें  याद कर लेना। 

Friday, May 4, 2018

बोलने वाली रातें चली गई

शांत जीवन में, एक सुनामी लहर सी आई
पल भर में, हजारों अश्क दे कर चली गई।

जिन्दगी में हर ख़ुशी अब, गैर हाजिर हो गई
बोलने वाली रातें अब,न जाने कहाँ चली गई।

मेरी शेर ओ शायरी, किताबों में धरी रह गई
सुर्ख होठों पर लगा, पढ़ने वाली तो चली गई।

बिना सोचे समझे, वो अनमनी चाल चल गई
दिन सुनसान और रातें वीरान कर,चली गई।

कसमें खाई थी साथ रहेंगे, एकाकी कहाँ गई
एक अधूरा ख्वाब दिखा, बिना कहे चली गई।

जीवन में हर कदम पर, सिसकियाँ ही रह गई
मेरे दिल में यादों की शमा जला, वो चली गई।





Monday, April 30, 2018

मेरे संग-संग

आज बहती पुरबा ने 
हौले से मेरे कान में कहा-
क्यों उदास बैठे हो ?

बिखरे पलों को समेटो फिर से
बीती यादों को सहेजो फिर से 
याद करो संग-सफर की बातें
बेहद मीठी होती है यादें

मैं जैसे ही तुम्हारी यादों में डूबा
तुम बरखा बन चली आई मेरे पास
तुम्हारी यादों की रिमझिम फुहारों ने
भीगा दिया मेरा तन-मन-प्राण

मैं भूल गया तन्हाई
डूब गया यादों की गहराई
तुम कल फिर से आना
सूरज की पहली किरण संग

मेरे सिरहाने बैठ
अपनी नर्म अँगुलियों से
मेरे गालों को छूना

मेरे बिखरे बालों को
तनिक सँवार देना
मैं जब भी तुम्हें याद करूँ
तुम इसी तरह से चली आना।