Sunday, October 28, 2012

क्या वह लमहा तुम्हे याद है ?





जब हम गंगा में
माटी के दीपक
प्रवाहित करते और
देखते रहते कि किसका
दीपक आगे निकलता है
क्या वह लमहा तुम्हे याद है ?


जब हम सागर से 
सीपिया चुन-चुन कर 
इकट्ठी करते और
देखते रहते कि किसकी
सीपी से मोती निकलता है
क्या वह लमहा तुम्हे याद है ?


जब हम झील के
किनारे बैठे रहते और 
बादलो की रिमझिम फुहारों में
भीगते हुए तुम कहती 
ये पहाड़ कितने अपने लगते हैं
क्या वह लमहा तुम्हे याद है ?
  

जब हम चाँदनी रात में
छत पर जाकर सोते और
टूटते हुए तारों को देख कर
तुम कहती तारों का टूटना मुझे
अच्छा नहीं लगता
क्या वह लमहा तुम्हे याद है ?



Wednesday, October 24, 2012

फाल का मौसम -पिट्सबर्ग





सुबह धना कोहरा
दिन में हलकी बारिश
शाम को गुलाबी ठण्ड
रात में चमचमाते जुगनू।

परिधान बदलती धरती 
रंग-बिरंगे पेड़ पौधे
दौड़ते हुए हस्ट-पुस्ट
लडके-लड़कियां। 

हरी भरी वादियाँ
और ऊँचे पर्वतों पर
अठखेलियाँ करती
काली घटायें। 

मोनोंगैहेला नदी और
ऐलेगनी का संगम स्थल 
ओहियो के उदगम पर    
मनभावन सूर्योदय।

फाल के मौसम  में
धरती का स्वर्ग
बन जाता है
पिट्सबर्ग।
  

Monday, October 22, 2012

हम किधर जा रहे है ?

आज इन्सान की हँसी
लोप होती जा रही है 
जैसे लोप होती जा रही है
नाना- नानी की कहानियाँ। 

आज इन्सान का प्रेम
लोप होता जा रहा है
जैसे लोप होती जा रही है
चन्दा मामा की कहानियाँ।

आज इन्सान की  करुणा  
लोप होती जा रही है 
जैसे लोप होती जा रही है
परियों की कहानियाँ।

आज इन्सान की शांति
लोप होती जा रही है
जैसे लोप होती जा रही है
राजा-रानी की कहानियाँ।

प्रगतिशील युग की तरफ
जाने के लिए  इस तरह की
सीढियाँ तो नहीं हो सकती
फिर हम किधर जा रहे है ?




Thursday, October 4, 2012

किसी दिन

सावन का महीना होगा
         गाँव का घर होगा
                मिट्टी के आँगन में
                     तुम्हारी पाजेब की रुनझुन
                                       सुनेंगे किसी दिन। 


लहलहाती फसले होंगी
         हवाओं में खुशबू होगी
                  वर्षात में भीगते हुए
                          खेत में साथ-साथ
                                     चलेंगे किसी दिन। 


तारों भरी रात होगी
         चाँद की गोद होगी
                  शबनमी रात में
                           तुम्हारी प्रणय राग
                                    सुनेंगे किसी दिन। 


कश्मीर की वादियाँ होगी
        केशर की क्यारियाँ होगी
                 कमल खिली झील में
                          साथ बैठ कर सैर
                                   करेंगे किसी दिन। 


गोधुली बेला होगी
        आरती का समय होगा
                  पास के मंदिर में जाकर
                        भगवान के सामने दीया
                                जलायेगें किसी दिन।


खुशबू भरी शाम होगी
         तुम मेरे पास होगी
                जुगनू की कलम से
                       तुम्हारे लिए एक कविता
                                   लिखेंगें किसी दिन।


ऊपर खुला आकाश होगा
        निचे अपरिमित जलराशि
                     ठंडी हवाओं के संग
                          साथ बैठ कर नौका विहार
                                           करेंगे किसी दिन।