Monday, May 31, 2010

ननिहाल



मई महीना  आते ही              
गर्मी जब बढ जाती है |
नानी के घर  जाने की              
जल्दी हमें सताती  है ||

लम्बी छुट्टी  होते ही  सब        
      नानी के घर जाते है|
नानी के संग चौपाटी में            
    भेल-पूरी हम खाते हैं ||

नानी दिन भर हम सबको             
           खेल अनेक खिलाती है|
जूहू बीच  पर  पुचका खाने           
            साथ   हमें ले जाती है ||

मामी मेरी प्यारी-प्यारी           
             देती गुडिया   नई- नई|
इसीलिए लगती हैं हमको          
               प्यारी-प्यारी   मुंबई ||

छुट्टिया  खत्म होते ही           
           वापिस घर आजाते हैं|
अगली छुटी में  आयेंगे           
           नानी को कह  आते हैं||



सुजानगढ़
३१  मई, २०१०


(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित  है )

Monday, May 24, 2010

ना बाबा ना

                                                                                                                                                                                                                                                                                                      




बुरा बोलना   बुरा देखना 
  बुरा सोचना  ना बाबा ना  | 

कभी लड़ना  कभी झगड़ना
शोर मचाना  ना बाबा ना |

झूठ  बोलना   चोरी करना
  नक़ल करना ना बाबा  ना |

गन्दा रहना, स्नान न करना
मैले  कपड़े  ना बाबा ना |

आँख में आँसू   नाक पे गुस्सा
मुँह से गाली  ना बाबा ना |

व्यर्थ घूमना  गप्प मारना
काम  न करना  ना बाबा ना  | 



सुजानगढ़
२४ मई, २०१०

Saturday, May 15, 2010

कौवे का श्राद्ध




एक कौवे ने
अपने पूर्वजो का
श्राद्ध कर्म करने का
मन बनाया। 

 मंदिर वाले पेड़ के
 पंडित कौवे को
श्राद्ध कर्म करने के लिए
 बुलाया। 


विधि-विधानुसार
पंडित कौवे ने एक पिंड
बनवाया और पीपल के पेड़
के नीचे  रखवाया। 

एक बूढा
 भिखारी उधर से निकला
 उसने पिंड को देखा
और खा लिया। 

पेड़ से कोवा
चिल्लाया - श्राद्ध पूर्ण हुवा
अभ्यागत ने भोजन
 ग्रहण कर लिया। 

सभी कौओं ने 
आसमान की तरफ देखा
श्रद्धा से उनकी आँखों से 
अश्रु टपक पड़े। 


सुजानगढ़                                                                                                                                          
14 मई, 2010                                                                                                                                         

                                     ( यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )                                
                                                                                                    

Friday, May 14, 2010

म्याऊ म्याऊ


        म्याऊँ- म्याऊँ बिल्ली करती,                 
                    भों- भों कुत्ते करते हैं। 
             चूं चूं करके चूहा करता,                           
                     मुर्गा बाँग लगाता है। 

    काँव-काँव करता हैं कौवा,              
               चिड़िया चीं-चीं करती है।   
      पैको-पैको मोर बोलता,                    
             टिऊ-टिऊ तोता करता है। 

    कुहू -कुहू कर कोयल बोले,             
                गुटर गूँ कबूतर करता है।   
      पिहू -पिहू  कर बोले पपीहा,             
                मेंढक टर्र- टर्र करता है। 

   जंगल में हैं शेर दहाड़े,               
                     घर में गाय रंभाती हैं। 
     ढेंचू- ढेंचू गदहे करते,                 
                       घोड़े  हिनहिनाते  हैं।

    मच्छर गुनगुनाते देखो,              
                मक्खियाँ भिनभिनाती  है। 
   फूलोँ पर मंडराते भंवरे,             
                    कुदरत खेल दिखाती है।


सुजानगढ़
१४ मई, २०१०




(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित  है )



 |