Friday, May 14, 2010

म्याऊ म्याऊ


        म्याऊँ- म्याऊँ बिल्ली करती,                 
                    भों- भों कुत्ते करते हैं। 
             चूं चूं करके चूहा करता,                           
                     मुर्गा बाँग लगाता है। 

    काँव-काँव करता हैं कौवा,              
               चिड़िया चीं-चीं करती है।   
      पैको-पैको मोर बोलता,                    
             टिऊ-टिऊ तोता करता है। 

    कुहू -कुहू कर कोयल बोले,             
                गुटर गूँ कबूतर करता है।   
      पिहू -पिहू  कर बोले पपीहा,             
                मेंढक टर्र- टर्र करता है। 

   जंगल में हैं शेर दहाड़े,               
                     घर में गाय रंभाती हैं। 
     ढेंचू- ढेंचू गदहे करते,                 
                       घोड़े  हिनहिनाते  हैं।

    मच्छर गुनगुनाते देखो,              
                मक्खियाँ भिनभिनाती  है। 
   फूलोँ पर मंडराते भंवरे,             
                    कुदरत खेल दिखाती है।


सुजानगढ़
१४ मई, २०१०




(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित  है )



 |
                                       

No comments:

Post a Comment