Sunday, September 29, 2013

नीम का पेड़


नीम के पेड़ की
शीतल बयार
शुद्ध हवा।

पंछियों का बसेरा
गिलहरियों का फुदकना
चिड़ियों का चहचहाना।

लल्लन का पालना
छुटकी का झुला
कोयल का घोंसला।

सब देखते-देखते
अतित बन गया
पेड़ धराशाही हो गया।

कुल्हाड़ी के लगते ही 
पेड़ कांप उठा
पत्ती-पत्ती सिहर उठी।

आरे के चलते ही
दर्द का दरिया फुनगी से
जड़ो तक बह गया।

मेरे देखते-देखते एक
हरे-भरे पेड़ का
अंत हो गया।










Saturday, September 28, 2013

Special Tips for nose relief

Allergy Relief

If you have seasonal allergies,consider a lowcost nasal rinse. Mix 3 teaspoons of iodine - free salt with 1 teaspoon of baking soda. Add 1 teaspoon of  that to 8 ounces of lukewarm distilled or boiled water, then use a bulb syringe to irrigate your nostrils.

Thursday, September 5, 2013

बुढ़ापे में होता है


(१ )
चार-चार बेटो की
फरमाईस पूरी करने वाला बाप
बुढ़ापे में अपने बेटो से नहीं पूछता -
दवाईया नहीं लाने की वजह या
चश्मे की फ्रेम नहीं बनने का कारण।
वो अपने फट्टे हुए कमीज के
साथ-साथ मुंह पर भी पैबंद
लगा लेता है।

(२ )
बच्चे बुढ़े माँ-बाप को
बेसमझ समझते है और
अपने को अधिक समझदार,
इसलिए जब घर में उनके दोस्त
आते है तो उनको बोलने की
मनाही हो जाती है।

(३ )
बुढ़ापा एक कमरे में
सिमट कर रह जाता है
झड़ जाते है दिन और
बदल जाता है वक्त
अपने घर वालो के सामने ही
बौना हो जाता है बुढ़ापा। 

Monday, September 2, 2013

एक नन्ही परी


एक नन्ही  परी सी 
गुलाब की कलि सी
अपनी भाषा में कुछ बोलती 
हँसती मुस्कराती मधु घोलती।

एक नन्ही परी  सी
मिसरी की डली सी
लघु पांवों पर खडी होती
पकड़ खाट थोड़ी  चलती।

एक नन्ही परी सी
मन को लुभाती सी
दिन में किलकारियां भरती
गोदी में अठखेलियाँ करती। 
   
एक नहीं परी सी
हँसती सूरजमुखी सी
  अति कोमल नाजुक सी
  भोली-भाली  गुड़िया सी।

एक नन्ही परी सी
प्यारी छुई-मुई सी
बाहर जाने को खूब मचलती
 जाकर बाहर खुश  हो जाती। 

एक नन्ही परी सी
प्यारी राजदुलारी सी
दो अंगुलियाँ मुँह में लेती
कपड़ा लेकर उनको ढकती। 

एक नन्ही परी सी
दूजी नहीं आयशा सी।

(राजश्री-मनीष की बेटी आयशा और मेरी लाडली पोती "नागड़ी " जो नौ महीने की हो गयी है। टेंगो पर उसकी अठखेलियां देख कर कुछ लिखने का मन बना )