Saturday, February 28, 2009

मेरा गाँव


गाँव में वह पीपल का पेड़ भी नहीं रहा
जिस पर हम सब मिल कर खेलते  थे।
  आशु काका की बैलगाड़ी भी नहीं रही   
  जिस पर चढ़ कर शहर जाया करते थे।
                                                  मेरा गांव अब बदल गया है।

कुम्हार काकी का अब नाच भी नही रहा,
जो शादियों में ढोल पर हुआ करता था।
दूध- दही की नदियाँ भी अब नहीं  बहती,
जो  किसी  मेहमान आने पर बहती  थी।
                                                     मेरा गाँव अब बदल गया है।

खेतों में अब अलागोजों पर गीत भी नहीं बजते,
जो गायों  को चराते समय चरवाहे बजाते थे।
 गौरियां   भी अब   चौपाल   में गीत नहीं गाती,
जो   गणगौर के पूजन के  समय गाती    थी।
                                                         मेरा गाँव अब बदल गया है।

गाँव में अब निर्विरोध चुनाव भी नहीं  होते,
जो मालू काका के सरपंच रहने तक हुए  थे।
   रात में चौपाल पर हँसी ठहाके भी नहीं होते,  
     जो बलजी के  रहते  समय लगा    करते थे |   
                                                            मेरा गाँव अब बदल गया है |

    गाँव में पनघट पर अब पायल भी नहीं बजती, 
     जब औरते बन-ठन  कर  पानी लाने  जाती थी |
      लम्बे  घूँघट भी अब गाँव  में दिखाई नहीं  देते,
          जो सभी गाँव की  औरते  निकाला  करती थी | 
                                                          मेरा गाँव अब बदल गया हैं |


कोलकत्ता
२८ फ़रवरी,२००९

(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Wednesday, February 18, 2009

अन्तिम अध्याय




इतिहास का अन्तिम अध्याय
                                 कभी नही लिखा जाता है।
यह तो हर पीढ़ी दर पीढ़ी      
                                       पुस्त दर पुस्त लिखा जाता है।            


हर बार मरे हुओं को जीवितों की
                          अदालत में पेश किया जाता है।
कभी फूलों की माला तो कभी
                         काँटों का ताज पहनाया जाता है।


हर सदी में कोई अच्छा तो
                                       कोई बुरा काम होता  है।
राम के साथ रावण का
                                 इतिहास भी लिखा जाता है।


इतिहास के पन्नों में यही सब
                                             जुड़ता चला जाता है।
इतिहास का अन्तिम अध्याय
                                        कभी नही लिखा जाता है।



कोलकत्ता
१७  फ़रवरी  २००९
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Tuesday, February 17, 2009

सत्ता का हस्तांतरण

बहू ने
सास की थाली में
घी से चुपड़ी  चपाती
को रखा। 

प्यार से कहा -
खाइए !
थक गई तो
लोग कहेंगे
बहू ने सास को
ठीक से नही रखा।

सास के
मुँह में जानेवाला ग्रास
हाथ में ही थम गया। 

आज अचानक
सास को वास्तविकता
का ज्ञान हो गया ।

कल तक
सास जो बहू को
अपने पास रखने का
दम भर रही थी।

आज बहू
उसे अपने पास रखने
का एहसास दिला रही थी ।

शब्दों के
बोल में ही सब कुछ
बदल गया था।

अनजाने  में ही
शान्ति से
सत्ता का हस्तांतरण 
हो गया था।



कोलकत्ता
१७ फ़रवरी, २००९

(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )