Tuesday, December 30, 2014

मीठी स्मृतियाँ

एक धरोहर के रूप में
अंतहीन यादें हैं तुम्हारी
मेरे पास  

तुम्हारे जाने के बाद भी 
वो छाई हुई है
मेरे अंतश मन के पास 

समुद्र के किनारे सीपियां चुनना 
गंगा के घाट पर दीपक तैराना 

झाड़ियों से मीठे बैर तोड़ना
खेतो में मोर का नाच देखना

घूँघट की आड़ में
तिरछी नज़रों से झाँकना

होली पर रंग लगाना
दीवाली में दीपक जलाना

गर्मी की रातों में छत पर सोना
दबे पांव आकर आँखें बंद करना

  न जाने कितनी यादें हैं 
कहाँ से शुरु करुं 
और कहाँ अंत करुं

रिमझिम फुहारों सी है
तुम्हारी यादें
जब भी मुझे छूती है
जेठ की गर्मी में भी
   सावन सा सुख देती है।





  [ यह कविता 'कुछ अनकही ***"में प्रकाशित हो गई है ]








कोहरा

धना कोहरा छाया काला
नहीं दीखता कहीं उजाला

कोहरे ने कोहराम मचाया
सर्दी को संग लेकर आया

ओढ़ रजाई सूरज सोया
तापमान निचे गिर आया

मुँह से भाप निकलती ऐसे
धुँवा छोड़ता ईंजन जैसे

ठण्ड से दाँत बजाते बाजा
कोहरा अपना रंग दीखाता।



Sunday, December 28, 2014

एक घरेलु औरत

एक घरेलु औरत
शहरी औरतों की तरह
होटलों में खाना पसंद नहीं करती है

वो घर का खाना
खा कर ज्यादा संतुष्टि का
अनुभव करती है

वो शहरी औरतों की तरह
बचे हुए खाने को उठा कर
सड़क पर नहीं फेंकती है

वो बची दाल से
परांठे और खट्टे दही से
कढ़ी बना लेती है

वो शहरी औरतों की तरह
अपनी काली चोटी
नहीं कटवाती

अपनी भौहें नहीं नुचवाती
क्रीम पावडर से चहरे को
नहीं पुतवाती

फिर भी वो
किसी कमसिन औरत से
कमतर नहीं होती। 









Friday, December 26, 2014

असली जीवन


हमने जीवन में कईं
कैलेण्डर बदल दिए
दीवाल पर घड़ियों की
बैटरियां बदल दी
मौसम भी आते-जाते रहे
कभी गर्मियाँ सताती रही
तो कभी सर्दियाँ हाड कंपाती रही
कहने के लिए तो हम जीवन जीते रहे
लेकिन असल में केवल दिन ही काटते रहे

अगर असली जीवन जीना है तो
हमें एक दिन घर से
बाहर निकलना होगा
बिना किसी पर्व के
बिना किसी मुहर्त के
और जाकर अनजाने हाथों में
रख आना होगा कुछ उपहार

उन अनजाने चेहरों पर
जब हम ख़ुशी देखेंगें तब
हमारे समझ में आएगा कि
हाँ आज हमने
असली जीवन जीया है।


Friday, December 19, 2014

प्रिय कुछ तो मुझको कहती

 जब झंझा झपटी अम्बर से   
कांप उठा अनजाने डर से  
     तन्हा दिल मेरा घबराया    
        लगी उदासी मन में 
                                         
         मेरे अंतर्मन की पीड़ा, झर-झर कर नयनों से बहती                                               
                                     प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                         

देख तुम्हारी नश्वर देह को
अवसाद निराशा छाई सब को       
     मेरे मन के उपर छाया  
          अंधकार पल भर में   
                                       
  मुझको दिख रही थी आज, अपनी प्यारी दुनिया ढहती                                           
                                     प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                       

      मधुऋतु में पतझड़ छाया     
  रोम-रोम मेरा अकुलाया
     तन्हाई का जीवन पाया
      प्रीत के पहले पहर में

बुझ न सकी प्यास अधरों की, आलिंगनवद्ध ही कर जाती                                              \
                                                           प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                                                          


 [ यह कविता "कुछ अनकहीं ***" में छप गई है।]


Sunday, December 14, 2014

साँसों का गुनाह

यह दिल तुम्हारे संग धड़कना चाहता है
मन आज भी तुमसे मिलना चाहता है
तुम्हारे बिना आज तलक मैं जी रहा हूँ
यह मेरा गुनाह नहीं साँसों का गुनाह है।

मौसम ने जो करवट बदली ठंडी आई
तुम्हारी ढ़ेरों  मधुर यादें दिल में समाई
पचास दशक तक साथ सर्दियाँ बिताई
आज तुम्हारी गर्म साँसों की यादें आई।

तुम मेरी जिंदगी में आई वो प्यार था
तुम मेरे ख़्वाबों में समाई वो प्यार था
तुमने मेरा जीवन संवारा वो प्यार था
तुम चली गयी लगता सब ख़्वाब था।

दिन रात तुम्हारा इन्तजार रहता है
तुम वापस आवोगी यह मन कहता है
तुम चली गयी मन अब भी नहीं मानता
एक गजब का विश्वास दिल में रहता है। 

Saturday, December 13, 2014

गर्म कपड़े

जाड़े ने दी अपनी पहली दस्तक
बदलते मौसम में निकले कपड़े
तुम्हारी देह गंध बसी मिली मुझे
साथ-साथ रखे तुमने  जो कपड़े

तुम्हारी यादें दिल में मचल गई
जब बाहर निकले सर्दी के कपड़े
वो चुहल बाजियाँ और शरारते
जिनसे महक रहे थे सारे  कपड़े

याद आई तुम्हारी गर्म साँसों की
जैसे ही निकाले मैंने गर्म कपड़े
भूलाना चाहूँ तो भी कैसे भुलाऊँ
प्यार का अहसास दिलाते कपड़े

मौसम बदलते ही तुम कहा करती
सर्दी आ गयी पहनलो गर्म कपड़े
काश तुम आज भी आकर कहती
सर्दी लग जाएगी पहनलो  कपड़े।


'





Monday, December 1, 2014

यह आप कहते हैं

हमने साथ में जीने मरने की कसमें खाई थी                          
 किसने  साथ निभाया है, यह आप कहते हैं।                                                          
                                                              
 मेरी जिंदगी एक, ठहरा हुवा पल रह गई है                  
                       जीवन कभी नहीं ठहरा, यह आप कहते हैं।                                        

वो फिर से मिलने का वादा, कर के ही चली जाती                                                                                         
  जाने वाले लौट कर नहीं आते, यह आप कहते हैं।                                                                                         

            भरी बहारों में, मेरा गुलसन वीरान हो गया                               
         पतझड़ भी आता है,यह आप कहते हैं।                          

 सूरत तो सूरत, उसका तो नाम भी प्यारा था                        
चली गई उसे भूल जाओ, यह आप  कहते हैं।                                                  
             
           कब सोचा था, सुहाने सपने पल में मिट जायेंगें                        
  धूप-छाँव का खेल है जिंदगी, यह आप कहते हैं।                 

                
 [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]




             
                            




                         


Friday, November 28, 2014

थारी ओळूं (राजस्थानी कविता)


थारी ओळूं
ओज्युं भूली कोनी
म्हारे तांई पुगण रो मारग

ओळूं रे सागै
चालै है आंख्यां रा आंसू
नितरे मारग

आज ताईं
संचनण उबी है
हिवड़ा में थारी छिब

आँख्या बंद कर
झांकता ही याद आवै
थारी उणियारे री छिब

थारी बातां
अर मुंडै री मुळक
आज भी आवै है याद

मन में
आज भी उठै है हूंक
जद-जद करूँ तनै याद

तू तो चली गई
दुनियादारी सूं होय
पूरी मुगत

पण म्हैं आज भी
थारै बिना एकलो
रियो हूँ भुगत।



[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]




Thursday, November 27, 2014

गीत प्यार रा गांवाला





गीत प्यार रा गांवाला,सगळा ने गले लगावांला
सत्य, प्रेम, अहिंसा से भारत रो मान बढ़ावांला
                                    सदभाव बना कर आपस मे हेत प्रेम से रेवांला
                                     धुप मिले हर आँगण में ऐसो सूरज ल्यावांला
साधू संता री धरती पर धर्म-ध्वजा फहरावांला         
शुर वीरां री धरती पर वीरां रो मान बढ़ावांला 
                                    गांव-गांव ढाणी ढाणी आखर अलख जगावांला  
                                    साफ़ सफाई राखाळा धरती ने स्वर्ग बणावांला
सगळा  ने काम मिलै ऐसी तजबीज बनावांला
दिन में ईद रात दीवाली घर-घर मायं मनावांला 

                                   ऊँच-नींच और जात-पाँत ने मिल कर दूर भगावांला
                                   टाबरियां न पढ़ा लिखा लव कुश सा निडर बणावांला
 सगळा ने मुफ्त इलाज़ मिलै इस्यो देश बनावांला                                                                             
 सोने री चिड़िया भारत ने अब पाछो नाम दिरावालां। 

Tuesday, November 18, 2014

पेट फूली रोटी (राजस्थानी कविता)



खाणुं खांवता
आज भी याद आ ज्यावै
माँ रे हाथ री रोटी

तवा स्यूं उतार
माँ सेंकती चूल्हा में
थेपड़ी रे खीरा पर रोटी

चिंपिया स्यूं काढती खीरा
अर उलट- पुलट बणाती
पेट फूली रोटी

रोटी पर माँ घाल देंवती
घणं सारों बिलोवण रो घी अर
मुट्ठी भर शक्कर

थाली में चूरता रोटी अर
बणाता चूरमो
मिलाय घी अर शक्कर

माँ आज भी आँसू बण
ढळबा लाग ज्यावै
चूरमा रै मिठास स्यूं

माँ री पुराणी यादां
कोनी बिसर दिल री
खिड़की स्यूं।







तुम्हारी ये तस्वीरें



सुनहली तारीखों को
आभामय और अविस्मणीय
बनाए रखने हेतु तुम सदा
संजोये रखती थी तस्वीरें

अभिनव सोच थी तुम्हारी
बड़े जतन से सहज कर
रखा करती थे एल्बम में
सारी तस्वीरें

पचास वर्ष के संगसफर में
हमारे प्रेम और विश्वास ने
जो अमृत रस घोला
उस की साझेदार हैं ये तस्वीरें

कितने रंग भरे थे हमने
अपने जीवन में
उन्ही की मीठी यादें हैं
ये तस्वीरें

मेरी स्मृतियां जैसे ही
लिपटती है तस्वीरों के संग
बोलने लग जाती है तस्वीरें

तुम्हारे विच्छोह के
गम को दूर करने
आज मेरा सहारा बनी है
तुम्हारी ये तस्वीरें।


  [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]








Sunday, November 16, 2014

आउटडेटेड



एक तुम्ही तो थी
जिसके साथ सच्ची 
बात को ले कर मैं 
लड़ लिया करता था 

तुम से मिले इस 
अधिकारों का मैं 
बेहिचक इस्तेमाल 
करता था 

अब जब तुम चली गई 
तो किस के साथ 
विवाद करूँ 

अब तो मन को मना लिया 
झूठ हो या सच सभी को 
निर्विवाद स्वीकार करूँ

अब जब भी कोई कुछ कहता है 
मैं अपनी आँखे बंद कर 
गर्दन नीची कर लेता हूँ यानी कि
अपनी मौन स्वीकृति दे देता हूँ 

सच्ची बात को लेकर भी 
अब मैं कोई तर्क नहीं करता  
उन्ही की बात को मान लेता हूँ 

आजकल नयी पीढ़ी
अपने आप को
कुछ ज्यादा ही समझदार
समझने लगी है 

अब वो ज्ञान देने में भी
नहीं हिचकिचाती
वो बुजर्गो को अब
आउटडेटेड समझने लगी है। 





तुम साथ छोड़ कर चली गई

 सुख गया जीवन का उपवन,रहा कभी जो हरा-भरा
पतझड़ आया जीवन में,तुम साथ छोड़ कर चली गई।

 दुःख की लंबी राहों में, खुशियों के दिन तो बीत गए
                                             चलते-चलते राहों में, तुम साथ छोड़ कर चली गई। 

मैंने आँखों में डाला था,जीवन के सपनों का काजल
संगी-साथी कोई नहीं, तुम साथ छोड़ कर चली गई

     दुःख मेरा अब क्या बतलाऊँ, दिल रोता है रातों में
     भीगे पलकें अश्कों से,तुम साथ छोड़ कर चली गई।

बिस्तर की हर सिलवट से,महक तुम्हारी ही आती
छाई उदासी मन में, तुम साथ छोड़ कर चली गई।

गीत अधूरे रह गए मेरे, अब क्या ग़मे बयान करुं 
  बिखरी सारी आशाएं,तुम साथ छोड़ कर चली गई।    


[ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]

Tuesday, November 11, 2014

एक टूटी फूटी स्मृति



डेढ़ साल की आईशा
खेल रही है
जब उसे भूख लगेगी
वो रो कर दूध मांग लेगी

जब नींद आएगी
मम्मी की गोदी में जाकर
सो जाएगी

उसे नहीं पता
उसको गोद खिलाने वाली
दादी कहाँ चली गई

जब भी कोई पूछता है
वो अपनी अंगुली दादी की
तस्वीर की तरफ उठा देती है

उसे हमारे दिलों में उठते
दुःख का अभी कोई
अहसास नहीं है

घर में दुखों का
कितना बड़ा पहाड़ टूटा है
उसे अभी आभास नहीं है

उसे नहीं याद रहेगा
उसकी दादी उसे कितना
प्यार करती थी

कैसे उसकी अंगुली पकड़
रोज पार्क में घुमाने
ले जाती थी

अभी तो वो खेलेगी
रोयेगी, हँसेगी या
रूठेगी

और हमें हर हाल में
अपना सारा काम छोड़
उसे मनानी होगी।
-








Monday, November 10, 2014

मेरे मन की वेदना

             

अगर तुमने मुझे इतना प्यार नहीं किया होता 
तो आज मेरी आँखों से अश्रु-जल नहीं बहता।

अगर तुम्हारा हाथ सदा मेरे हाथ में रहता
                                                     तो मेरा जीवन इतना बेसहारा नहीं होता। 

अगर तुमने ढलती उम्र में मेरा साथ दिया होता
तो आज मुझे दुःख का दिन नहीं देखना पड़ता। 

                                                अगर जाते समय तुमने मुझे कह दिया होता                                                   तो तुम्हारे जाने का इतना गम मुझे नहीं होता। 

अगर मैं तुम्हारी सूरत आँखों से निकाल पाता                                                                                               
तो मुझे भी तुम्हारे जाने पर सब्र आ गया होता।                                                                                             

अगर तुम्हारी रवानगी किसी तरह टाल देता 
                                                   तो आज मेरा जीवन इतना तनहा नहीं होता।     
                                                


                                           [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]

Sunday, November 9, 2014

हे मृत्यु जननी!

मृत्यु उस दिन
एक ममतामयी माँ
की तरह आई थी

उसने बड़े प्यार से
तुम्हे अपने अंक
लगाया था

स्नेह के साथ मुस्कराते
हुए तुम्हारे सिर को
सहलाया था

धीरे-धीरे थपकी देकर
तुम्हे सदा के लिए
गहरी नींद
सुला दिया था

हम कुछ समझ पाते
इससे पहले ही तुम तो
मृत्यु जननी की अंगुली पकड़
संग चली गई थी

हे मृत्यु जननी!
स्वागत तुम्हारा
जब भी किसी का
गमन दिन आए
तुम इसी तरह से आना

प्यार की थपकी देकर
अपने अंक लगाना और
अंगुली पकड़ संग ले जाना।




Monday, November 3, 2014

मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया



मेरे जीवन का ख्व्वाब टूट गया                                                              
       मेरे दिल का गुलशन सुख गया    
               मेरे जीवन साथी तुम बिछुड़ गए
                      मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरी खुशियों का सूरज डूब गया
        मेरी बहारों का मौसम गुजर गया
              मेरे हमसफ़र तुम ओज़ल हो गए
                      मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरी मुहब्बत का चिराग बुझ गया
       मेरी आशाओं का महल ढह गया
               मेरे हमराही तुम वादा तोड़ गए
                     मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरा मधुमयी मधुमास बीत गया
           मेरा जीवन गागर रीत गया 
                 मेरे मधुबन के पाहुन तुम चले गए


                          मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।




[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]

बीते दिन कब लौट कर आऐ

मैं तीन दिन से
बुखार में बिस्तर पर
सोया हुवा हूँ

मैं जानता हूँ कि तुम अब
अपने नरम हाथों से
मेरा सिर दबाने
कभी नहीं आवोगी

और न अब मेरे
सिरहाने बैठ प्रभु से मेरे
स्वस्थ होने की कामना करोगी

लेकिन मैं तुमसे
इस बात पर नाराज नहीं हूँ
और न कभी नाराज होऊंगा

मैं जनता हूँ कि
चाँद-तारों संग रहने वाले
कभी लौट कर नहीं आते

और फिर मेरे पास तो
तुम्हारी ढ़ेर सारी यादें हैं
मैं उन्हीं के सहारे ठीक हो जाऊंगा

तुम देखना
मैं कल स्वस्थ हो कर
ऑफिस भी चला जाऊंगा।






Thursday, October 30, 2014

एक बार लौट आओ



रंग बिरंगी तितलियाँ
आज भी पार्क में
उड़ रही है 

गुनगुनी धुप आज भी 
पार्क में पेड़ों को
चूम रही है 

फूलों की खुशबु आज 
भी हवा को महका 
रही है

कोयलियाँ आज भी
आम्र कुंजों में
गीत गए रही है

हवा आज भी
टहनियों की बाँहे पकड़
रास रचा रही है

लेकिन तुम्हारी
चूड़ियों की खनक आज
सुनाई नहीं पड़ रही है

तुम्हे मेरी कसम
मेरे हमदम
एक बार लौट आओ

अपनी चूड़ियों की
खनक एक बार फिर से
सुना जाओ।


                                  [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]









Tuesday, October 28, 2014

यादें मेरी स्मृति में बसी रहेगी





प्रियजन कहते हैं वो चली गई
आप उसे अब भूल जाओ
लेकिन मैं कैसे भूल जाऊँ ?

प्रेम केवल यादों की
चौसर मात्र तो नहीं है कि
इतनी सहजता से भूल जाऊँ

उसका प्रेम तो मेरे
रोम-रोम में घुल गया है
जिसे भुलाना मेरे लिए
इतना सहज नहीं रह गया है 

उसके अहसासों का
उसकी उमंगों का
उसकी मुस्कानों का
एक संसार मेरे मन में बस गया है

मैं कैसे करुं उन
साँसों को अलग जो मेरी
साँसों के संग घुल-मिल गयी है

मैं कैसे लौटाऊँ
उसके बदन की खुशबु
जो मेरे भीतर समा गयी है

मैं कैसे अलग करुं उसकी छायां
जो मेरी छायां संग
एकाकार हो गयी है

मैं कैसे भुलावुं उन
खूबसूरत क्षणों की यादें
जो मेरे दिल में बस गयी है

जब तलक
इस धरा पर मैं रहूंगा
तब तलक उसकी यादें
मेरी स्मृति में बसी रहेगी। 



[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]





Wednesday, October 22, 2014

तुम संगदिल हो बेदिल नहीं



आज मैंने सूरज से पूछा--
रोज सुबह वो तुम्हें
अर्ध्ये दिया करती थी
आज मुझे बताओ
वो अब कैसी है ?
सूरज ने कहा -वो अच्छी है
और चला गया पहाड़ों के पीछे।

आज मैंने चाँद से पूछा--
तुम्हें देख-देख वो रोज
अपनी पोते-पोतियों को लोरियाँ
सुनाया करती थी
आज मुझे बताओ
वो अब कैसी है ?
चाँद ने कहा - वो अच्छी है
और चला गया बादलों के पीछे।

आज मैंने हवाओं से पूछा--
तुम रोज उसके आँचल से
खेला करती थी
आज मुझे बताओ
वो अब कैसी है ?
हवाओं ने कहा - वो अच्छी है
और चली गई पेड़ों से गुनगुनाने।

आज मैंने बादलों से पूछा--
तुम तो उसके पास से आते हो
आज मुझे बताओ
वो कैसी है ?
बादलों ने कहा - वो अच्छी है
और चले गए आकाश को चूमने।

मैंने सबसे कहा-
तब मुझे भी ले चलो
उस के पास
कोई भी तैयार नहीं हुवा
मुझे ले चलने तुम्हारे पास

मैंने तारों की पंचायत में
फ़रियाद लगाईं
चांदनी से सिफारिश करवाई
जंगल, पहाड़, नदियां से
प्रार्थना की
लेकिन कोई सुनाई नहीं हुई

मुझे पता है
तुम मेरे बिना
खुश रह ही नहीं सकती
तुम संगदिल हो बेदिल नहीं।




                                               [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]







Tuesday, October 21, 2014

मेरी छोटी पोती आयशा



"दादा"
यह सुरीली पुकार
बिना किसी काट छांट के 
मेरे पास पहुँचती है 

इस बेशकीमती  
पुकार को सुनने के लिए 
मेरे कान बेक़रार रहते हैं 

आवाज को सुन कर 
कानों को एक प्यारी सी 
गजल का अहसास होता है 

मैं उसे दोनों हाथों  से 
थाम लेता हूँ जब वो 
दौड़ कर मेरे पास आती है 

मेरे हाथों को 
सफ़ेद मुलायम खरगोश 
का अहसास होता है 

यह चंचल-नटखट मेरी 
सबसे छोटी पोती 
आयशा है। 







Saturday, October 18, 2014

तुम जो साथ नहीं हो

जब तक
तुम मेरे साथ थी
मुझे नदी, नाले,
पहाड़
उमड़ते बादल
हरे-भरे खेत और
खलिहान
बहुत अच्छे लगते थे

अच्छे तो
वो अब भी हैं
लेकिन तुम अब जो
साथ नहीं हो

सुबह- दो मनः स्थितियाँ

एक सुबह
उस दिन हुयी थी
जब तुम मेरे साथ थी

एक सुबह
आज हुयी है जब
तुम मेरे साथ नहीं हो

उस सुबह
होठों पर हँसी थी
आज आँखों में पानी है

मन समझता है
दोनों  में कितना
अन्तर है।

मेरे दिल में जो बसी हो

मैं तुम्हें
जितना ज्यादा
याद करता हूँ
मेरा दुःख उतना ही
ज्यादा बढ़ता जा रहा है

बहरहाल अभी
मेरी आँखों से अश्रु धरा बह रही है
क्योंकि मैं तुम्हे पल-पल
याद कर रहा हूँ

मैं चाहता हूँ
तुम्हें याद करना छोड़ दूँ
जिससे मेरा दुःख कम हो जाए

लेकिन कैसे
मैं दिल से तुम्हें
निकाल भी तो नहीं सकता।






Friday, October 17, 2014

वही जिन्दगी थी




जिस समय को हमने
साथ-साथ जिया था
शायद वही जिन्दगी थी।

भले ही उन लम्हों को
हमने हँसते हुए जिया था
या एक दूजे की बाँहों में
बिताया था
शायद वही जिन्दगी थी।

भले ही उन क्षणों को
हमने हाथों में हाथ डाले
हुए जिया था
या आँखों में आँखें डाले
बिताया था
शायद वही जिन्दगी थी।

भले ही उस वक्त को
हमने एक दूजे से बातें
करते हुए जिया था
या एक दूजे को देखते हुए
बिताया था
शायद वही जिन्दगी थी।

उगते हुए सूरज के साथ
चलते हुए चाँद के साथ
टूटते हुए तारों के साथ
जो पल हमने साथ -साथ जिये थे
शायद वही जिन्दगी थी।


अलविदा की बेला


तुम तो मुझे छोड़ कर
कहीं नहीं जाती 
अकेली

फिर आज क्यों 
मुझे छोड़ ली गयी 
अकेली 

मेरे घर पहुँचने तक भी 
तुमने नहीं किया 
इन्तजार 

नहीं दिया तुमने मुझे 
दो बात करने का 
भी अधिकार 

थोड़ी देर रुक जाती
तो तुम्हारा क्या 
बिगड़ जाता 

अलविदा की बेला में 
तुम्हें गले ही
लगा लेता

लेकिन तुम तो 
मेरे पहुँचने से पहले ही 
चली गई 

इतने लम्बे सफर में
मुझे छोड़ अकेले ही
निकल गई 

मत चली जाना इतनी दूर 
कि मेरी आवाज भी 
नहीं सुन सको 

अपने भरे पुरे परिवार को 
फिर से देख भी 
नहीं सको 

जल्दी लौट आना 
मैं अकेले जीवन-पथ पर 
 नहीं चल पाउँगा  

तुम्हारी जुदाई 
का दर्द मैं 
 नहीं सहन कर पाउँगा।



   [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]





Sunday, September 28, 2014

मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है




जब से तुम बिछुड़ी हो मुझसे
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है


तुम्हारा स्नेह स्पर्श पाकर
मन मन्दिर में एक नया दीप जल उठता
मन वीणा पर प्यार भरा संगीत उभर आता
लेकिन अब वो चाँद सा चेहरा दीखता नहीं है
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है।


जब-जब तुम  मुस्काती
अधरों पर प्यार भरा गीत निकल आता
सावन झूम कर कजरी गाने लग जाता
लेकिन अब मन को छूने वाली मुस्कान नहीं है
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है।


तुम्हारे तन की उन्मादक गंध
मेरे गीतों में मादकता भर देती
दिल में प्यार का फूल खिला देती
लेकिन अब सांसो से महकता संसार नहीं है
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है


तुम्हारे नयनों की बाँकी छवि देख
कजरारे बदरा पर गीत उमड़ आते
होठों पर झूलों वाले गीत मचल जाते
लेकिन अब नयनों की ओस से खिलता गुलाब नहीं है
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है


तुम्हारे पायल के स्वर से
भंवरों की गुंजन सा गीत निकल आता
सावन श्यामल धन बन कर छा जाता
लेकिन तुम बिन पायल से बजता संगीत नहीं है
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है


जब से तुम बिछुड़ी हो मुझसे
मेरे अधरों पर प्यार भरा कोई गीत नहीं है।





Thursday, September 25, 2014

दुसरो को भी जीने दो



इस धरती पर
सभी के लिए पर्याप्त है
सूर्य और उसकी रोशनी
चन्द्रमा और उसकी चाँदनी
हवा और पानी
विस्तृत फैला नीला आकाश है

धरती की मिटटी से
उठती है एक सौंधी महक
सौभाग्य की खुशियों की
और सौंदर्य की जो करती है
सब के मन को मोहित

इस धरती पर
केवल अपने लिए नहीं जीना है
दुसरो को भी जीने का हक़ देना है
उतनी ही आशाओं के साथ
जीतनी हम करते हैं।






पण थूं पाछी कोनी बावड़ी (राजस्थानी कविता )






म्है तो चावौ हो
थनै सावण-भादौ री 
उमट्योड़ी कलायण 
दाईं देखबो करूँ 

पण तुंतो 
बरस'र पाछी 
बावड़गी।  

*******


म्हारै माथै भला ही 
चाँद चमकण लागग्यो हुवै 
मुण्डा पर भला ही 
झुरया पड़नै लागगी हुवै 

पण म्हारै हैत में थूं 
कोई कमी देखी कांई  
जणा बता थूं सावण की
डोकरी दाईं क्यूँ चली गई। 

*********


पून ज्यूँ बालूरा धोरा नै
सजार- संवार चली जावै
बियान ही थूं चली गई
म्हारै जीवण ने सजार- संवार

पण पून तो साँझ ढल्या
ठण्डी हुवारा लैर लैहरका
पाछी  आज्यावै
पण थूं पाछी कोनी बावड़ी।

*********




Tuesday, September 23, 2014

जीवन की परिभाषा




आँख का खुलना
और बंद होना
इतने में ही तो सिमट जाता है जीवन

साँस का आना 
और दूसरी का जाना
इतने में ही तो गुजर जाता है जीवन

बिजली का चमकना
और लुप्त होना
इतने में ही तो लुट जाता है जीवन

जलते दीपक को
हवा का झोंका लगना और बुझाना
इतने में ही तो बुझ जाता है जीवन

बंद मुट्ठी में
रेत को पकड़ना और फिसलना
इतने में ही तो रीत जाता है जीवन

सागर की लहरों का
किनारे से टकराना और लौटना
इतने में ही तो लौट जाता है जीवन। 


[ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]







Monday, September 22, 2014

पूर्ण विराम



चार महीने पहले आज के दिन
घर में खुशियों का  माहौल  था
किसी का भी पाँव जमीं पर
नहीं टिक रहा था 

मम्मी- पापा की शादी की
गोल्डन जुबली मनाई गयी थी
सबने  साथ मिल कर
ढेरों खुशियाँ बाँटी थी

लेकिन आज लगता है जैसे
जीवन में सब कुछ थम गया है
जीवन की राह में एक
पूर्ण विराम लग गया है

अचानक मम्मी हमें
अकेले छोड़ कर चली गई
अपनी ईह लीला समाप्त कर
ईश्वर में विलीन हो गई

अब तो लगता है बिना मम्मी
के घर जैसे वीरान हो गया है
खुशियों से भरे जीवन में
हिमपात हो गया है

किससे जाकर कहूँ कि मम्मी
तुम्हारी बहुत याद आती है
हर पल तुम्हारी बातें मन में
आकर आँखों से अश्रु बहाती है

लेकिन कभी लगता है जैसे
मम्मी तुम हमारे पास ही हो
और हम सभी के जीवन का
पथ प्रदर्शन कर रही हो

जब तक मम्मी तुम्हारा
आशीर्वाद हमारे साथ है
जीवन में कभी पूर्ण विराम नहीं होगा
ऐसा हम सब का विश्वाश है।

नोट : यह कविता मनीष कांकाणी द्वारा लिखी गयी है।  )

Saturday, September 20, 2014

जब तक तुम साथ थी


जब तक तुम साथ थी
मन में खुशियों के
फूल खिला करते थे
अब तो दुःखों के बादल
छाए हुए हैं।

जब तक तुम साथ थी
जीवन सुहाना सफर
लगता था
अब तो जीवन गुजरा हुवा
कारवां लगता है।

जब तक तुम साथ थी
आँखों में सुख की नींद
बसा करती थी
अब तो आँखों से केवल
अश्रु बहते हैं।

जब तक तुम साथ थी
होठों पर प्यार भरे गीत
मचलते थे
अब तो केवल
दर्द भरी आहें निकलती है

जब तक तुम साथ थी
दिन सोने के और रातें
चांदी की होती थी
अब तो दिन रेगिस्तान और
रातें पहाड़ लगती है।



  [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]

Tuesday, September 16, 2014

मेरे मन की कौन सुनेगा

  
हर दम तेरी आती यादें
मन में उमड़े सारी बातें    
तन्हाई के इस जीवन में  
कौन प्यार की बात करेगा     

  मेरा दिल अब टूट गया है                                                       
   मेरे मन की कौन सुनेगा                                                      

  मैं दुःख के दरिया में जीता   
    अपने अश्रु जल को पीता   
 जीवन की इस अर्द्धरात्रि में        
  दीपोत्सव अब कौन करेगा  

                                            मेरा दिल अब टूट गया है 
                                             मेरे मन की कौन सुनेगा।    

     सोते-उठते तुम्हें पुकारूँ          
सपनों में अब तुम्हें निहारूँ       
     कैसे जीवन अब काटूंगा       
   इसकी चिंता कौन करेगा     

                                             मेरा दिल अब टूट गया है 
                                              मेरे मन की कौन सुनेगा।     

   मेरे सारे ख्वाब थे तुमसे       
    आँखों में सपने थे तुमसे     
   मेरी जीवन की नैया को     
    कौन खेवैया पार करेगा   

                                           मेरा दिल अब टूट गया है
                                             मेरे मन की कौन सुनेगा।        




                                           [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]




Wednesday, September 10, 2014

उसने कहा था



एक बार
तुमने मुझे कहा था
जब मैं तुम्हे दिखाई
न दू तो यह मत समझना
मैं तुमसे दूर चली गयी हूँ

मुझे देखने के लिए
तुम आसमान की तरफ
मत देखना
अपने दिल के भीतर देखना
मैं तुम्हे वहीँ मिल जाऊँगी

मैं तुम्हारे दिल में
सदा बसी रहूँगी।

Monday, September 8, 2014

मेरा आभार




जीवन के
लम्बे संग-सफर में
मैं कभी प्रकट नहीं कर सका
तुम्हें अपना आभार 

निश्छल प्रेम
करुणा
शुभ भाव वर्षण 
सब कुछ पाया
लेकिन नहीं कह सका
आभार 

सोचता हूँ 
आज तुम्हे प्रेषित करूँ 
अपना आभार

बादलों को दूत बना
मैं भेज रहा हूँ
तुम्हें अपना आभार

भावांजलि बन मैं
बिखर जाना चाहता हूँ
प्रकट करने तुम्हें
अपना आभार

अपने ह्रदय में
सहेजना मेरे भावों को 
स्वीकार करना
मेरा आभार।

[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]






\









Sunday, September 7, 2014

आवौ आपा उछब मनावां (राजस्थानी कविता)

बरसा न बरस स्यूं
सालो-साल आपा करा
कुँवारी कन्या री पूजा
आपणी श्रद्धा सारू

छोटी छोटी कुँवारी कन्यावां ने
देवा निमंत्रण
बुलावा बानै
महालया रे दिन

आपणे घरां री लुगायां
धोवै बारा पगल्या
पुंछ गमछा स्यूं
लगाव कुंकु और
करे नमन समझ
दुर्गा रे उणियारै

माथै तिलक लगावै
भेंट देवै मोकळो सामान
जको काम आवै
पांच स्यूं दस साल री
कुँवारी कन्यावा रै पढने-लिखने

बूढी'र विधवां रो भी
करा आपा सम्मान
देवा बानै भी  पैरण
को सामान

जीवण री आपाधापी स्यूं
थोड़ो टेम काढ़'र आवो
आपा सगळा सागै मिल'र
पुजा कुँवारी कन्यावां नै
देवा कपड़ा बूढी'र विधवाओं ने
नवरात्रा के दिना में।























Wednesday, September 3, 2014

तुम सदा मेरे साथ रहोगी




इस जीवन में अब तुम से
मिलना नहीं होगा
लेकिन जीवन के हर पल में
तुम सदा मेरे साथ रहोगी

बारिश की रिमझिम में
सर्दी की गुनगुनी धुप में
मुस्कराते बसंत में
तुम सदा मेरे साथ रहोगी

मेरे सपनों के आकाश में
मेरी कविताओं के भाव में
परिंदों के चहचहाते स्वर में
तुम सदा मेरे साथ रहोगी

मेरी बातों में
मेरी यादों में
मेरे मन के भावों में
तुम सदा मेरे साथ रहोगी

मेरी तो सुबह भी तुमसे होगी
साँझ भी तुम से ढलेगी
जिन्दगी के राहे-सफर में
तुम सदा मेरे साथ रहोगी।



[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]

Tuesday, September 2, 2014

हसरतें अधूरी रह गई मेरी

नेह भरे थे नयन तुम्हारे
        चितवन से मृग भी थे हारे
                 गीत लिखे थे तुम पर मैंने
                          अपने  स्वर में गाए तुमने

जब तक संग तुम्हारा था 
        जीवन बचपन लगता था 
                   अब तो जीवन संध्या है
                           कुछ  ही दिन का मेला है

जब जब याद तुम्हारी आती
          कंठ रुँध, आँखे  भर आती
                  मरुभूमि बन गयी जिंदगी
                           सपने सी खो गयी बंदगी 

बिना तुम्हारे रह नहीं पाता
        अपना दर्द मैं कह नहीं पाता
                  खुशियां सारी खो गई मेरी
                        हसरतें अधूरी रह गई मेरी।


[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]
                 
               



Monday, September 1, 2014

बन कर मेरी परछांई





आज बहती पुरबा ने 
हौले से मेरे कान में कहा
पागल आँखें क्यों रो रही है ?

याद कर
संग-सफर की बातें
बेहद मीठी होती है यादें


मैं जैसे ही
तुम्हारी यादों में डूबा
तुम बरखा बन
चली आई मेरे पास

तुम्हारी यादों के संग
रिमझिम फुहारों ने
भीगा दिया मेरा तन-मन

कल तुम सूरज की
पहली किरण बन
फिर आना मेरे पास

मुझे हौले से सहला कर
कुछ देर बैठ जाना मेरे
सिरहाने के पास

मैं जब भी तुम्हें याद करूँ
तुम बन कर मेरी परछांई
चलती रहना मेरे संग-संग।




Sunday, August 31, 2014

मेहंदी री सौरम (राजस्थानी कविता)





आपणै ब्याव री
पैली तीज रा सातू
आपा गांव में पास्या

आकड़ा का हरियळ पत्ता
ल्यावण खातर थूं
सहेल्यां सागै गीत गावंती
रिंधरोही में गई

आंवती बगत थूं
समलाई नाडी में
मैंदी रचिया हाथा स्यूं
आकड़ा रा पत्ता धो लिया

बरसा न बरस बीतग्या
पण नाडी रे पाणी में आज
भी थारे हाथा री मैंहंदी री
सौरम आवै

तीज आंवता ही बोरायोड़ो मन
सपन लोक में खो ज्यावै
थारी यादा पौर-पौर में
उतर ज्यावै।


[ यह कविता "कुछ अनकही ***" पुस्तक में प्रकाशित हो गई है ]




कैसे निभाऊँ अपना कृतव्य







जब तलक तुम थी
घर-बाहर के सभी
छोटे-मोटे निर्णय
तुम कर लिया करती थी 

तुम्हारे जाने के बाद 
यह भार मुझ पर
आ गया 

लेकिन मैं
तुम जैसा सामर्थ्य 
मैं कहाँ से लाऊँ 

प्रियजन भी कहते हैं 
अब आपको ही
माँ और बाप दोनों का प्यार 
बच्चों को देना होगा 

लेकिन मैं  
तुम जैसा ह्रदय
कहाँ से लाऊँ 

कल शशि पूछने लगी
दस दिन पिहर जा कर
आ जाऊं क्या ?

मेरी आँखों में अश्रु छलक पड़े
मेरा गला रुँघ गया
मैं केवल इतना कह पाया-
हाँ-ना कहने वाली तो 
चली गयी मैं क्या कहूँ ?

अब तुम ही बताओ 
बिना तुम्हारे कैसे निभाऊँ 
यह सब दायित्व 

कहाँ से लाऊँ 
इतना साहस कि 
निभा सकु अपना कृतब्य। 







फिर भी बैठी मेरे अन्तर में




    
    जब से तुम बिछुड़ी हो मुझ से    
       चैन खो गया सारा जीवन से 
      छोड़ अकेला पथ में मुझको   
        तुम पहुंची भू से अम्बर को। 
                                            
                                                     जब भी बात तुम्हारी होती  
                                                    दिल रोता ऑंखें भर आती 
                                                     नयनों में सावन घिर आता    
                                                    मन मेरा विचलित हो जाता।   

           नहीं मिटा पाता यादों को 
    ख़्वाब नहीं दे पाता आँखों को
       चली गयी तुम प्रीत लगाकर
         बिच राह में मुझे छोड़ कर। 

साथ तुम्हारा नहीं भूलूंगा                                     
               जीवन भर मैं याद रखूंगा                                                    
             चली गई तुम दूर क्षितिज में                                                   
   फिर भी बैठी मेरे अन्तर में।                                       
                                      


   
 [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]




Tuesday, August 26, 2014

सांसो में उत्तरना



इस बार चौथ पर
मैं नहीं देख सका तुम्हारे
हाथों की मेहंदी 

तुम्हे बहुत शौक था 
लगाने हाथों में 
मेहंदी 

जब भी तुम लगाती
हाथों में मेहंदी 
मुझे आकर जरूर दिखाती

"बताओ कैसी रची है मेरी मेहंदी' 
अपने हाथों को मेरे सामने कर
तुम बार-बार पूछती 

तुम्हे बार-बार मुझसे 
मुस्कराते हुए पूछना
अच्छा लगता

और मुझे तुम्हारे
हाथों की खुशबू का
सांसो में उत्तरना अच्छा लगता। 



 [ यह कविता 'कुछ अनकही ***"में प्रकाशित हो गई है ]












Tuesday, August 19, 2014

मन सुखद सपर्श चाहता है




खोया मन
नींद की प्रतीक्षा में 
करवटें बदलता रहता है

आँखों से
ढलकते हैं अश्रु 
तकिया भीगता रहता है 

बेवफा हो जाती है 
दुःख में नींद भी 
वो भी साथ नहीं देती 

मन का दर्द चाहता है
एक सुखद सपर्श
तस्वीर साथ नहीं देती

स्मृतियाँ  
कुरेदती है मन को
दर्द बहता रहता है नयनों से

जैसे कालिदास के 
विरही यक्ष ने भेज दिया हो
मेघो को बरसने नयनों से।  

                                                 

[ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]

Saturday, August 16, 2014

अब वह बात कहाँ ?




पहले थी मोहब्बते जिंदगी
अब वह बात कहाँ ?

सुबह-शाम घूमने जाते
हँस-हँस करके बातें करते
तोड़ फूल हाथों में देते
अब वह बात कहाँ ?

एक दूजे की राह देखते 
साथ बैठ कर खाना खाते
मनुहारों से भोजन करते 
अब वह मजा कहाँ  ?

शाम-सवेरे पूजा करते
भजन-आरती संग में गाते 
रागों की झंकार उठाते
अब वह समा कहाँ ?

जब भी हम फुर्सत में होते 
अपने मन की बातें करते 
पुनर्मिलन की इस जीवन में
अब वह घड़ी कहाँ ?

देश-विदेश घूमने जाते
एक दूजे के संग में रहते 
चाँद-चांदनी संग था अपना 
अब वह साथ कहाँ ?  

पहले थी मोहब्बते जिंदगी
अब वह बात कहाँ ?



 [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]