Saturday, October 18, 2014

तुम जो साथ नहीं हो

जब तक
तुम मेरे साथ थी
मुझे नदी, नाले,
पहाड़
उमड़ते बादल
हरे-भरे खेत और
खलिहान
बहुत अच्छे लगते थे

अच्छे तो
वो अब भी हैं
लेकिन तुम अब जो
साथ नहीं हो

No comments:

Post a Comment