Friday, November 12, 2010

मोरियो,



 
सतरंगी पांख्याँ वालो,    
                                    रंग - रंगीलो  मोरियो  
 शीश किलंगी घंणी  सोवणी,
                                       प्यारो लागे मोरियो। 


पंख  फैलावै  छतरी ताणै,
                                        घूमर घाले  मोरियो  
    मैह आव जद बोलण लागे,
                                           पैको- पैको मोरियो।  


   चोंच   मार कर नाड़ उठावे,
                                              दाना चुगतो मोरियो 
     काचर  खा  कर पांख गिरावे,
                                              चोमासा में मोरियो। 


      साँझ ढल्यां पीपल के ऊपर,
                                                  जाकर बैठे मोरियो  
     पंछीङा में घणो  सोवणों,    
                                                   रास्ट्र पक्षी यो मोरियो।    

              
                                                                                             

कोलकत्ता
१२ नवम्बर, 2010
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Monday, November 8, 2010

एक बादली (राजस्थानी कविता )


                                    


बणी काजली एक बादली
दूर खेत रे मायं जी
पुरवाई री पून चालगी
रिमझिम मैह बरसावे जी

बेलां री जोड़ी ने लेकर
छैल खेत में चाल्यो जी
मीठी बाणी मरवण बोले
छेलो तेजो गावेजी 

        कोयल गावे,बुलबुल फुदके       
मोरयों छतरी ताणे जी 
पंछीङा गाछां पर बैठ्या
मधरा गीत सुनावे जी 

काची-काची कोंपल फूटी
धरती रो रंग निखरयो जी 
हरियल बूंटा  लेहरां लेव
मरवण करे निनाण जी

अलगोजा खेता में बाज्या
गौरी कजली गावेजी 
बिजल्यां चिमके, बिरखा बरसे
लाटण री रूत आई जी 

मैह मोकळो अबकी बरस्यो
घणे चाव धरती जोती
ओबरियो अबकै भरस्यां
मिज्याजण गौरी बोली

गुंवार मोठ के फल्यां लागगी
सीट्या कूं-कूं लाग्यो जी 
काचर,बोर,मतीरा पाक्या
                           चुनड़ सिट्टा मोरे जी                          
                            
            पीला-पीला बोर मोकळ             
  लाग्या झाड़ी ऊपर जी 
        मठ काचरिया मीठा-मीठा        
   खावण री रुत आईजी   

भर कटोरो  छाछ-राबड़ी
मरवण भातो ल्याईजी
बाजरी री रोटी ऊपर
गंवार फली रो सागजी 

खोल छाक जिमावण लागी
मेहँदी वाला हाथां  जी 
   ढोळो गास्यो भूल गयो    
निरख चाँद सो मुखड़ोजी। 


कोलकत्ता
८ नवम्बर, 2010
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित  है )