Monday, December 29, 2008

इतिहास



इतिहास
बहुत पढ़ चुके,
अब इसे पढ़ना
छोडो।

और स्वयं
इतिहास का
सर्जन
करो। 

जिससे
आने वाली पीढ़ी
पढ़ कर तुम पर
गर्व कर सके। 

जिंदगी तो
बिखरे दानो की तरह है
कुछ तो पंछी चुन गए
कुछ ही शेष बची है। 

कहीं ऐसा न हो  कि
घर आया इतिहास  का
मेहमान तुम्हारे यहाँ से
खाली हाथ चला जाए। 

और तुम्हारा नाम
इतिहास के सुनहरे पन्नो
पर दर्ज होने से ही
रह जाए  |
    
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )



 

Wednesday, December 24, 2008

यहाँ कहाँ

 बरिटो,सेंडविच ,पिज्जा खाया,                        
लाजानिया,पास्ता, बर्गर खाया,
  बकलावा, फलाफल, टाको खाया,                     
  सब कुछ यहाँ का हमने खाया 
 पर खीर चूरमा यहाँ कहाँ?                            


स्टेचू आफ लिबर्टी देखा,                          
गोल्डन गेट को घूम कर देखा,
डिजनीलैंड की रोनक देखी,                        
  सब कुछ हमने यहाँ पर देखा,
  पर ताज महल सा यहाँ कहाँ ?                  


 टोर्रे पाइन, मियामी देखा,                          
 लाहोया, सेंटा मोनिका देखा ,  
     कोरोनाडो, हवाई बीचों को देखा ,                  ,
   सब में नहाए, सभी को देखा,     
पर हरकी पौड़ी यहाँ कहाँ?                    


   थैंक्स गिविंग में मिलते देखा,                  
क्रिशमस को जगमगाते देखा,      
नाचते गाते इस्टर में देखा ,                   
सभी त्योंहारों  को हमने  देखा,  
  पर होली का मजा यहाँ कहाँ ?               
 

सैन डिएगो (अमेरिका)
२४ दिसम्बर ,२००८
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Tuesday, December 23, 2008

मुस्कान फेंकते जाते हैं.



अमेरिका में लोग यहाँ,                                
बहुत  मेहनती होते हैं |
 हो डगर कितनी भी मुश्किल                       
ये आगे बढ़ते जाते हैं|
मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                            
                         

खून को ये अपने रगों में,                       
कार्य  बना  कर दौडाते है |
पथरीली बंजर जमीन को,                       
ये मधुबन  में बदलते है|
मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                         
              
                
यहाँ रंग भेद की बात नहीं,                   
                       छोटे- मोटे का भाव नहीं|                  
सारे मिल कर यहाँ एक साथ,                
           गीत प्यार के गाते हँ।
   मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                         
                    

      करने की सबमे ललक यहाँ,                    
ये ऊँचे होंसले रखते हैं।
    है इतने कर्मठ और मेहनती,                  
पत्थर पर फूल खिलाते हैं|
         . मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                          
                      

     डरते नही  प्रलय   से भी,                         
ये अन्तरिक्ष में उड़ते हैं|
        अतुल समुद्र की गहराई  में,                       
ये झांक   कर आते हैं ।
         मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                            

  दूर खड़े क्षितिज के पार,                        
नहीं  थोथे  गाल बजाते हैं|
जो कहते है वो करते हैं,                       
दुनिया में परचम लहराते है|
        मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                           
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

सैन डिएगो (अमेरिका)
२३ दिसम्बर, २००८
 

Tuesday, December 16, 2008

चिड़िया





रंग-बिरंगी  चिड़िया आई,                   
                   थोड़े चावल चुन कर लाई  |                                  
                 
                सोचा खीर बनायेंगे,
           हिल-मिल करके खायेंगे।
 

उड़ता हुआ एक कौवा आया,                
 उसके मुँह में पानी आया।              

  डाल से नीचे  झट वो आया,
           चुपके से सब चावल खाया।       

सारी चिडियाँ उदास हो गयी,               
मुँह लटका गमगीन हो गयी।               
                   
 अब कहाँ से चावल आये,
                        कैसे अपनी खीर बनायें।                      

कृष्णा यह सब देख रहा था,               
मन ही मन कुछ सोच रहा था।                
               
   उसने चिडियों को पास बुलाया,
                        खीर खिला  कर  मित्र बनाया।                   



सैन डिएगो  (अमेरिका)
१६ दिसंबर, २००८



(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Sunday, December 14, 2008

तुम क्या हो?





तुम इन बच्चों की माँ
इन बहुओं की सास हो 
तुम नन्हे-मुन्नों की दादी

और मेरी  हम सफर हो 

तुम मुझसे  पूछो की तुम क्या हो ?                           

सुशीला नाम से धनी 
तुम  माँ की ममता हो 
तुम  करुणा की मूरत
मेरी एक अमानत हो 
                                                             
तुम मुझसे पूछो की तुम क्या हो?                                       

तुम  धरा सी  धैर्यशाली
दुःख  में सुख़ का बादल हो 
तुम पुष्पलता सी   कोमल
तुम मेरी पथ प्रदर्शिनी हो                         

तुम मुझसे पूछो की तुम क्या हो?      

तुम   सागर    सी    गहरी
नील गगन से विस्तृत हो 
तुम सुखद पवन का झोंका
अमृत     सी    मधुमय हो 

तुम मुझसे पूछो की तुम क्या हो   ?                                       

जिन्दगी में सब पाया तुमसे
प्रति उपकार तुम्हे  क्या दूँ हाल       
मेरी   उम्र   लगे  तुम्हे और
तुम जीयो  हजारों साल 

तुम मुझसे पूछो की तुम क्या हो   ? 




सैन डिएगो   (अमेरिका)
१४ दिसम्बर, २००८

(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

अमेरिका में मैंने देखा

x


  एकाकी यहाँ का जीवन देखा,

 माँ-बाप सेअलग बेटों को देखा।
  दुःख-सुख में कोई साथ ना दे,
  ऐसा जीवन यहाँ का देखा।

गद्दो पर बैठे कुतो को देखा,
गोदी में बिल्लियों को देखा।

लेकिन ममता को गोद खेलते,
  मैंने  यहाँ  कहीं नही देखा।

लम्बी - चोड़ी   सड़कें देखी,
रंग  -  बिरंगी   कारें   देखी।
गले  मिल कर प्रेम से पूछे,
ऐसा  मैंने   यहाँ नही देखा।

क्लबों में नाचते-गाते देखा,
दौर शराब का चलते देखा।
भजन - कीर्तन करते कोई,
मैंने  यहाँ कहीं नही देखा।

अमेरिका,लन्दन,पेरिस देखा,
घूम - घूम  दुनिया को देखा।
ऐसा- वैसा   सब कुछ   देखा,
पर भारत जैसा देश न देखा।


सैन डिएगो (अमेरिका )
१३ दिसम्बर, 2008