Tuesday, December 23, 2008

मुस्कान फेंकते जाते हैं.



अमेरिका में लोग यहाँ,                                
बहुत  मेहनती होते हैं |
 हो डगर कितनी भी मुश्किल                       
ये आगे बढ़ते जाते हैं|
मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                            
                         

खून को ये अपने रगों में,                       
कार्य  बना  कर दौडाते है |
पथरीली बंजर जमीन को,                       
ये मधुबन  में बदलते है|
मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                         
              
                
यहाँ रंग भेद की बात नहीं,                   
                       छोटे- मोटे का भाव नहीं|                  
सारे मिल कर यहाँ एक साथ,                
           गीत प्यार के गाते हँ।
   मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                         
                    

      करने की सबमे ललक यहाँ,                    
ये ऊँचे होंसले रखते हैं।
    है इतने कर्मठ और मेहनती,                  
पत्थर पर फूल खिलाते हैं|
         . मुस्कान फेंकते  जाते हैं |                          
                      

     डरते नही  प्रलय   से भी,                         
ये अन्तरिक्ष में उड़ते हैं|
        अतुल समुद्र की गहराई  में,                       
ये झांक   कर आते हैं ।
         मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                            

  दूर खड़े क्षितिज के पार,                        
नहीं  थोथे  गाल बजाते हैं|
जो कहते है वो करते हैं,                       
दुनिया में परचम लहराते है|
        मुस्कान फेंकते  जाते हैं|                           
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

सैन डिएगो (अमेरिका)
२३ दिसम्बर, २००८
 

No comments:

Post a Comment