Thursday, December 10, 2009

चलो चलते है गाँव में

                                                             चलो                                                                 
               चलते है                  
        गाँव में          
                 
लहराती फसलें जहाँ
बजते अलगोजे वहाँ 

गायों के झुण्ड
भेड़ों के रेवड़
ऊंटों के टोले

पानी भरे तलाब जहाँ
पायल पानी लाये वहाँ

रंभाती गायें
नाचते मोर
गाती कोयल

कंधो पर हल जहाँ
चलते है पाँव वहाँ 

होली के रंग
सावन के झूले
तीज के गीत

गाती है गौरियाँ जहाँ
बजते है चंग वहाँ 

मुंडेरों पर काग
खेतों में मोर
पेड़ों पर पपीहे

मंडराती तितलियाँ जँहा
गुनगुनाते है भँवरे वहाँ

नागौरी बैल
मदुवा  ऊंट
दुजती भैंसे

घर -घर होते बिलौने जहाँ
सुलभ  होता नवनीत  जहाँ

खिलती कचनार
झरते हरसिंगार
दहकता पलास

धरती बनती दुल्हन जहाँ
गगन बनता दूल्हा वहाँ

चलो
चलते हैं
गाँव में |


कोलकत्ता
१० दिसंबर, २००९
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )