Wednesday, September 22, 2010

बुजुर्गों कि शिक्षा




बड़े बुजर्गों ने बताया कि
परिवार के साथ रहो
अकेले मत रहो 

अकेले रहते हो तो
रात को घर से
बाहर मत रहो 

बाहर रहना
 ही पड़े तो जल्दी
 लोट आवो 

ज्यादा दिन बाहर
रहने से परिवार
बिखर जाता है 

लेकिन उसने
बुजुर्गो की सिख पर
ध्यान नहीं दिया

बाहर जाने लगा
कई दिनों बाद घर
आने लगा

एक दिन वही हुवा
जो बुजर्गों ने कहा था
आज घर बिखर गया था

पड़ोसियों  ने बताया
"वो" किसी के साथ
भाग गई

गहने कपड़े भी ले गई
बैंक बैलेंस भी साफ़ कर गई
छोड़ गई एक अदद सूना मकान

अब वंहा घर नहीं था
सूना मकान था
और साथ में था
उम्र भर का पछतावा। 



कोलकत्ता
२२ सितम्बर, २०१०

Saturday, September 11, 2010

वाह रे कलकता





यह    कैसा  है  कलकत्ता                       
         मेरी समझ में नहीं आता ,
माँ   काली का   कलकत्ता                    
        बड़ा   विचित्र है   कलकत्ता I


हाथीबगान में हाथी नहीं              
              बागबाजार में  बाग  नहीं,
बहुबजार    में  बहु   नहीं             
             फूलबगान में फूल   नहीं  I


        राजाकटरा में राजा  नहीं                  
               पार्क   सर्कस  में सर्कस  नहीं,
प्रिंसेस  घाट  पर प्रिंसेस नहीं          
                    बाबुघाट   पर  बाबू  नहीं  I 


    निम्बूतला में निम्बू  नहीं                 
               बादामतला में बादाम नही,
मछुवा बजार में मछुवा नहीं           
                 दरजीपाड़ा  में  दरजी नहीं  I


 बैठक खाना में बैठक नहीं             
               बैलगछिया  में  बैल नहीं,
घासबगान  में घास  नहीं              
                    बाँसतल्ला  में बाँस नहीं  I  


        यह   कैसा     है  कलकत्ता                    
               मेरी   समझ में नहीं आता,
 माँ  काली   का  कलकत्ता             
                बड़ा  अजब   हैं   कलकत्ता I

कोलकत्ता
११ सितम्बर, २०१०
(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

Tuesday, September 7, 2010

घर



ईंट,सीमेंट
   और गारे से   
 मकान तो बन जाता है
  लेकिन घर नहीं बनता है 


घर बनाने के लिए
चाहिए प्रेम रूपी सीमेंट
विश्वाश रूपी ईंट और
त्याग रूपी गारा 

इनमे से अगर एक भी
कमजोर हो जाये तो
घर बिखरने में
    देर नहीं लगती।     

कोलकत्ता
६ सितम्बर, २०१०

Wednesday, September 1, 2010

प्रकृति के रंग






टेढ़ी -मेढ़ी  कुछ खीँच लकीरे,
कृष्णा ने एक चित्र बनाया |

चित्र    देख   मैंने    जब  पूछा,
   उसने मुझको   यो समझाया |

  लाल रंग    जहाँ    बिखरा था,    
उसने उसको     भोर बताया |

 काला   रंग जँहा  छितरा   था   
उसको  काजल कोर बताया  |

  हरा रंग    धरती का आँचल,    
   पेड़ो    को उसने दिखलाया |    

नीला      रंग जँहा फैला  था, 
उसको गंगा जल   बतलाया  |

गायों  को चरते दिखलाया, 
 चिड़ियों को उड़ते  दिखलाया  ।

टेढ़ी -मेढ़ी  कुछ खीँच लकीरे,
कृष्णा ने एक चित्र बनाया |


कोलकत्ता 
१ सितम्बर, २०१०


(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )