Saturday, April 18, 2015

जो पल तुमने मेरे नाम किये

आज जब तुम मेरे संग नहीं हो
तुम्हारे साथ बिताये लम्हों की यादें ही
मेरे जीवन का एक मात्र सहारा है

मैं चाहता हूँ
उन यादों को जीवन में
सहज कर रखूं

कविता से आदर्श
दूसरा कोई विकल्प
इसके लिए नहीं होगा

जब तुम पराजगत में मिलोगी
मैं रख दूंगा तुम्हारी हथेलियों पर
उन्हें सहज कर

करूंगा तुम्हारा शुक्रिया अदा
उन पलों के लिए
जो पल तुमने मेरे नाम किये।









Wednesday, April 15, 2015

खुशियाँ रूठ गयी जीवन से

   मुझको सारा सुख देने में
     तुमने अपना सुख माना
मेरी हर पीड़ा मुश्किल को
    तुमने अपना दुःख माना
                     
                                   जब से बिछुड़ हो मुझ से
                                खुशियाँ रूठ गई जीवन से।
                     
    सच्ची सेवा और लगन  से
   पूर्ण रूप तुम रही समर्पित
    हर पल मेरा साथ निभाया
जीवन सारा कर दिया अर्पित

                          जब से जुदा हुई हो मुझसे
                          खुशियाँ  रूठ गई जीवन से।

मुस्कान तुम्हारे अधरों की
     मेरे जीवन में साथ रही
 प्रीत तुम्हारी अमृत बनके
     गंगा जल सी सदा बही
                         
                               जब से दूर हुई हो मुझसे
                            खुशियाँ रूठ गई जीवन से।
                         
    सुषमा-सौरभ बिखरा कर
    जीवन मेरा सफल बनाया
साथ दिया सुख-दुःख में मेरा
   खुशियों का संसार सजाया
                       
                              जब से अलग हुई हो मुझसे
                               खुशियाँ रूठ गई जीवन से।



                                              [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]












Wednesday, April 8, 2015

हो सके तो लौट आओ

आज पंद्रह महीने बीत गए, तुमसे बिछुड़े हुए
आँखें बिछी है राह में, हो सके तो लौट आओ।

                                                    जीवन के अंतिम पहर में, तुम तो बिछुड़ गई
                                              तन्हा हो गया मेरा जीवन, हो सके तो लौट आओ।     
        
यादों का सिलसिला दे कर, तुम तो चली गयी
मिट गए सारे ख्वाब, हो सके तो लौट आओ।  

तुम रहती हो मुझ में, गहरे बहुत गहरे कहीं
पुकारता रहता है मन, हो सके तो लौट आओ।

ढलकते रहते हैं अश्रु, भीगता रहता है तकिया 
जीवन की ढलान पर, हो सके तो लौट आओ।       

दिन यादों में और रातें, रोने में कट जाती है 
खोया रहता है मन, हो सके तो लौट आओ। 




                                                                                                                       
कोलकाता
६ अक्टुम्बर, २०१५    


                                             
                                               [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]




Monday, April 6, 2015

छलक पड़ती है आँखे

आज से
ठीक नौ महीने पहले
काल के क्रूर हाथों ने
तुमको छीन लिया था मुझ से

जब तक
तुम्हारा साथ था
भोर की उजली धूप की तरह
सुख लिपटा रहता था मुझे से

खुशियाँ सारी
रहती थी मेरी मुट्ठी में
हथेलियाँ छोटी पड़ जाती थी
थामने सुख

पारे की तरह फिसल गया
छूप गया है रूठ कर
वक़्त की झाड़ियों में सुख

याद आ रहा है
तुम्हारा हँसता चेहरा
गजल कहती
वो आँखे

दिवार पर लगी
तुम्हारी तस्वीर देख
छलक पड़ती है
मेरी आँखे।

                                                [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]

कोलकाता
६ अप्रैल,२०१५