Saturday, April 18, 2015

जो पल तुमने मेरे नाम किये

आज जब तुम मेरे संग नहीं हो
तुम्हारे साथ बिताये लम्हों की यादें ही
मेरे जीवन का एक मात्र सहारा है

मैं चाहता हूँ
उन यादों को जीवन में
सहज कर रखूं

कविता से आदर्श
दूसरा कोई विकल्प
इसके लिए नहीं होगा

जब तुम पराजगत में मिलोगी
मैं रख दूंगा तुम्हारी हथेलियों पर
उन्हें सहज कर

करूंगा तुम्हारा शुक्रिया अदा
उन पलों के लिए
जो पल तुमने मेरे नाम किये।









No comments:

Post a Comment