Saturday, December 17, 2016

मिनखपणो (राजस्थानी कविता)

म्हारौ बाळपणो
ओज्युं गाँव माँय
गुवाड़ी री चूंतरया माथै 
पग लटकायां बैठ्यो है 

गाँव री बूढी-बडेरया 
ओज्युं संजो राखी है 
म्हारी तोतली बोली ने  
आपरै मना मांय 

म्हारै बाळपणै रा चितराम
ओज्युं जम्योड़ा है
बारै निजरां मांय 

गाँव जाऊँ जणा
माथै पर दोन्यू हाथ फैर'र 
दैव घणी आसीसा

थारी हजारी उमर हुवै
थे सदा सुखी रेवो
दुधां न्हावो अर पूतां फळो 

ओ गाँव है
अठै मन रो रिस्तो रैवै
अपणायत अर हैत रैवै

मिनखपणो दिखै पग-पग पर अठै
हेत-नैह री ओज्युं लैरा ब्येवै अठै।

मनड़ै रा मोती (राजस्थानी कविता )


         O
म्है तो चावौ हो
थनै सावण-भादौ री
उमट्योड़ी कलायण दाईं
देखबो करूँ 

पण तुंतो 
बरस'र पाछी 
बावड़गी।  


        OO
म्हारै माथै भला ही 
चाँद चमकण लागग्यो हुवै 
मुण्डा पर भला ही 
झुरया पड़नै लागगी हुवै 

पण म्हारै हैत में थूं 
कोई कमी देखी कांई  
जणा बता थूं सावण री
डोकरी दाईं क्यूँ चली गई। 




        OOO
पून ज्यूँ बालूरा धोरा नै
सजार- संवार चली जावै
बियान ही थूं चली गई
म्हारै जीवण ने सजार- संवार

पून तो साँझ ढल्या
ठण्डी हुवारा लैहरका लैर
पाछी आज्यावै पण थूं
पाछी कोनी बावड़ी।  
       


Saturday, December 3, 2016

क्षणिकाएँ ---तुम्हारे लिए

अँखियां ढूंढें
तुमको चहुँ ओर
सजनी आओ।

तुम्हें पुकारा
आवाज लौट आई
तुम न आई।

तुम्हें बुलाने
कहाँ भेजु सन्देश 
बताओ मुझे।

दिल पुकारे
सर्द ठंडी रातों में
आ जाओ अब।

ढूंढ रही है
मेरी कविता तुम्हें
कहाँ हो तुम।

ठहर गई
मेरी जिंदगी आज
तेरे जाने से।

तुम्हें खो कर
अपना सुख चैन
खो बैठा हूँ मैं।




Friday, December 2, 2016

मेरी आँखों में ख्वाब नहीं है

तुम्हारा स्नेह स्पर्श पाकर
                      मन में प्यार का दीप जलता
                                     हैत का सागर हिलोरें लेता  
                                                                                      अब वह स्नेह स्पर्श नहीं है                                                                                                                  मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     

जब-जब तुम मुस्कुराती 
                        अधरों पर प्यार का गीत उभरता 
                                 सावन कजरी गाने लगता  
                                                       अब वह मादक मुस्कान नहीं है
                                                                               मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     
                                                                                    

तुम्हारे तन की उन्मादक गंध
                   मेरे गीतों में मादकता भरती 
                                       दिल में प्यार के फूल खिलाती
                                                        अब वह उन्मादक गंध नहीं है
                                                                             मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।

                                                                            
                                                                             
     तुम्हारे नयनों की छवि देख     
                       कजरारे बदरा पर गीत उमड़ते 
                                          होठों पर झूलों वाले गीत मचलते 
                                                             अब वह पलकों की छांव नहीं है
                                                                                  मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।

                                                                                                
                                                                                             
तुम्हारे पायल के स्वर से
                              भंवरों के गुंजन सा गीत निकलता
                                              सावन श्यामल धन बन छा जाता
                                                              अब वह पायल का संगीत नहीं है
                                                                                मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।

                                                                                 
  [ यह कविता "कुछ अनकही ***" में प्रकाशित हो गई है। ]