Friday, December 2, 2016

मेरी आँखों में ख्वाब नहीं है


तुम्हारा स्नेह स्पर्श पाकर
                      मन में प्यार का दीप जलता
                                           हैत का सागर हबोले लेता  
                                                                                          अब वह स्नेह स्पर्श नहीं है                                                                                                                     मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     

जब-जब तुम मुस्कराती 
                        अधरों पर प्यार का गीत उभरता 
                                   सावन कजरी गाने लगता  
                                                            अब वह मादक मुस्कान नहीं है


                                                                                 मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     
                                                                                    

तुम्हारे तन की उन्मादक गंध
                     मेरे गीतों में मादकता भरती 
                                          दिल में प्यार के फूल खिलाती
                                                            अब वह उन्मादक गंध नहीं है


                                                                                 मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     
                                                                             
तुम्हारे नयनों की छवि देख     
                         कजरारे बदरा पर गीत उमड़ते 
                                             होठों पर झूलों वाले गीत मचलते 
                                                                  अब वह नयनों का बांकापन नहीं है


                                                                                             मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     
                                                                                             
तुम्हारे पायल के स्वर से
                              भंवरों के गुंजन सा गीत निकलता
                                                सावन श्यामल धन बन छा जाता
                                                                 अब वह पायल का संगीत नहीं है


                                                                                      मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।     
                                                                                         
          जब से तुम बिछुड़ी हो मुझ से
              मेरी आँखों में कोई ख्वाब नहीं है।    









No comments:

Post a Comment