Saturday, September 11, 2010

वाह रे कलकता





यह    कैसा  है  कलकत्ता                       
         मेरी समझ में नहीं आता ,
माँ   काली का   कलकत्ता                    
        बड़ा   विचित्र है   कलकत्ता I


हाथीबगान में हाथी नहीं              
              बागबाजार में  बाग  नहीं,
बहुबजार    में  बहु   नहीं             
             फूलबगान में फूल   नहीं  I


        राजाकटरा में राजा  नहीं                  
               पार्क   सर्कस  में सर्कस  नहीं,
प्रिंसेस  घाट  पर प्रिंसेस नहीं          
                    बाबुघाट   पर  बाबू  नहीं  I 


    निम्बूतला में निम्बू  नहीं                 
               बादामतला में बादाम नही,
मछुवा बजार में मछुवा नहीं           
                 दरजीपाड़ा  में  दरजी नहीं  I


 बैठक खाना में बैठक नहीं             
               बैलगछिया  में  बैल नहीं,
घासबगान  में घास  नहीं              
                    बाँसतल्ला  में बाँस नहीं  I  


        यह   कैसा     है  कलकत्ता                    
               मेरी   समझ में नहीं आता,
 माँ  काली   का  कलकत्ता             
                बड़ा  अजब   हैं   कलकत्ता I

कोलकत्ता
११ सितम्बर, २०१०
(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

1 comment:

  1. khoob bhalo... aapkee yah kavita padhkar mujhe "SHARAD JOSHI JI" kee ek baat yaad aa gayi:- "Is desh mein wo usi ke liye hai jiske liye wah nahi hai". To kalkatta bhi to isi deh ka hissa hai...

    ReplyDelete