Wednesday, December 24, 2008

यहाँ कहाँ

 बरिटो,सेंडविच ,पिज्जा खाया,                        
लाजानिया,पास्ता, बर्गर खाया,
  बकलावा, फलाफल, टाको खाया,                     
  सब कुछ यहाँ का हमने खाया 
 पर खीर चूरमा यहाँ कहाँ?                            


स्टेचू आफ लिबर्टी देखा,                          
गोल्डन गेट को घूम कर देखा,
डिजनीलैंड की रोनक देखी,                        
  सब कुछ हमने यहाँ पर देखा,
  पर ताज महल सा यहाँ कहाँ ?                  


 टोर्रे पाइन, मियामी देखा,                          
 लाहोया, सेंटा मोनिका देखा ,  
     कोरोनाडो, हवाई बीचों को देखा ,                  ,
   सब में नहाए, सभी को देखा,     
पर हरकी पौड़ी यहाँ कहाँ?                    


   थैंक्स गिविंग में मिलते देखा,                  
क्रिशमस को जगमगाते देखा,      
नाचते गाते इस्टर में देखा ,                   
सभी त्योंहारों  को हमने  देखा,  
  पर होली का मजा यहाँ कहाँ ?               
 

सैन डिएगो (अमेरिका)
२४ दिसम्बर ,२००८
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment