Tuesday, October 28, 2014

कैसे भूल जाऊँ





प्रियजन कहते हैं
आप उसे अब भूल जाओ
लेकिन मैं कैसे भूल जाऊँ

प्रेम केवल यादों की
चौसर मात्र तो नहीं कि
जिसे इतनी सहजता से भूल जाऊँ

उसका प्रेम तो मेरे
रोम-रोम में घुल गया है
जिसे भुलाना मेरे लिए
इतना सहज नहीं रह गया है 

उसके अहसासों का
उसकी उमंगों का
उसकी मुस्कानों का
एक संसार मेरे मन में बस गया है

मैं कैसे करूँ उन
साँसों को अलग जो मेरी
साँसों के संग घुल-मिल गयी है

मैं कैसे लौटाऊँ
उसके बदन की खुशबु
जो मेरे भीतर समा गयी है

मैं कैसे अलग करूँ
उसकी छायाँ जो मेरी
छायाँ संग एकाकार हो गयी है

मैं कैसे भुलावुं उन
खूबसूरत क्षणों की यादें
जो मेरे दिल में बस गयी है

जब तलक
आसमान में सितारे
चमकते रहेंगे
तब तलक
उसकी यादें मेरी स्मृति में
बसी रहेगी। 









No comments:

Post a Comment