Friday, December 19, 2014

प्रिय कुछ तो मुझको कहती

 जब झंझा झपटी अम्बर से   
कांप उठा अनजाने डर से  
     तन्हा दिल मेरा घबराया    
        लगी उदासी मन में 
                                         
         मेरे अंतर्मन की पीड़ा, झर-झर कर नयनों से बहती                                               
                                     प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                         

देख तुम्हारी नश्वर देह को
अवसाद निराशा छाई सब को       
     मेरे मन के उपर छाया  
          अंधकार पल भर में   
                                       
  मुझको दिख रही थी आज, अपनी प्यारी दुनिया ढहती                                           
                                     प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                       

      मधुऋतु में पतझड़ छाया     
  रोम-रोम मेरा अकुलाया
     तन्हाई का जीवन पाया
      प्रीत के पहले पहर में

बुझ न सकी प्यास अधरों की, आलिंगनवद्ध ही कर जाती                                              \
                                                           प्रिय कुछ तो मुझको कहती।                                                                          


 [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]


No comments:

Post a Comment