Monday, December 1, 2014

यह आप कहते हैं

हमने साथ में जीने मरने की कसमें खाई थी                          
 किसने  साथ निभाया है, यह आप कहते हैं।                                                          
                                                              
 मेरी जिंदगी एक, ठहरा हुवा पल रह गई है                  
                       जीवन कभी नहीं ठहरता, यह आप कहते हैं।                                        

वो लौट कर आने का वादा, कर के ही चली जाती                                                                                         
  जाने वाले लौट कर नहीं आते, यह आप कहते हैं।                                                                                         

            भरी बहारों में, मेरा गुलसन वीरान कर चली गई                                
         जीवन में पतझड़ भी आता है,यह आप कहते हैं।                          

 सूरत तो सूरत, उसका तो नाम भी प्यारा था                        
अब उसे भूल जाओ, यह बात आप  कहते हैं।                                                  
             
           कब सोचा था, सुहाने सपने पल में मिट जायेंगें                          
  धूप-छाँव का खेल है जिंदगी, यह आप कहते हैं।                 

                






             
                            




                         


6 comments:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 03 दिसम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपका आभार यशोदा जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... अच्छा विरोधाभास है ...

    ReplyDelete
  4. सुमनजी आपका आभार।

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद आपका दिगम्बर जी।

    ReplyDelete