Sunday, August 31, 2014

फिर भी बैठी मेरे अन्तर में




    
      जब से तुम बिछुड़ी हो मुझ से    
       चैन खो गया सारा जीवन से 
          छोड़ अकेला पथ में मुझको 
         तुम पहुंची भू से अम्बर को। 
                                            
                                                  जब भी बात तुम्हारी होती  
                                                    दिल रोता ऑंखें भर आती 
                                                   नयनों में सावन घिर आता    
                                                 मन मेरा विचलित हो जाता।   

         नहीं मिटा पाता यादों को 
    ख़्वाब नहीं दे पाता आँखों को
      चली गयी तुम प्रीत लगाकर
        बिच राह में मुझे छोड़ कर। 

साथ तुम्हारा नहीं भूलूंगा                                     
               जीवन भर मैं याद रखूंगा                                                   
             चली गई तुम दूर क्षितिज में                                                    
    फिर भी बैठी मेरे अन्तर में।                                         


     





No comments:

Post a Comment