Sunday, August 31, 2014

मेहंदी री सौरभ (राजस्थानी कविता)





आपणै ब्याव री
पैली तीज रा सातू
आपा गांव में पास्या

आकड़ा का हरियळ पत्ता
ल्यावण खातर थूं
सहेल्यां सागै गीत गावंती
रिंधरोही में गई

आंवती बगत थूं
समलाई नाडी में
मैंदी रचिया हाथा स्यूं
आकड़ा रा पत्ता धो लिया

बरसा न बरस बीतग्या
पण नाडी रे पाणी में आज
भी थारे हाथा री मैंहंदी री
सौरभ आवै

तीज आंवता ही बोरायोड़ो मन
सपन लोक में खो ज्यावै
थारी यादा पौर-पौर में
उतर ज्यावै।







No comments:

Post a Comment