Monday, November 10, 2014

मेरे मन की वेदना

             

तुम्हारे संग सदा मेरे होठों पर हँसीं रही
अब तो मुस्कराना भी नसीब नहीं होता।

अगर हम दोनों में इतना प्यार नहीं होता 
तो आज मेरी आँखों से आँसूं नहीं बहता।

अगर जाते समय तुमने आवाज दी होती                                                                                                          तो मुझे तुम्हारे जाने का गम नहीं होता।                                                                                                     

अगर तुम ढलती उम्र में मेरा साथ निभाती
  तो मेरे जीवन में दुःख का दिन नहीं आता।

अगर तुम्हारा हाथ सदा मेरे हाथ में रहता
तो मेरा जीवन इतना बेसहारा नहीं होता।

                                                     
                                                    तुम्हारा संग चैत की चांदनी सा सुख देता 
अब उम्मीद का चाँद भी नजर नहीं आता। 



                                           [ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]

No comments:

Post a Comment