Thursday, November 27, 2014

गीत प्यार रा गांवाला





गीत प्यार रा गांवाला,सगळा ने गले लगावांला
सत्य, प्रेम, अहिंसा से भारत रो मान बढ़ावांला
                                    सदभाव बना कर आपस मे हेत प्रेम से रेवांला
                                     धुप मिले हर आँगण में ऐसो सूरज ल्यावांला
साधू संता री धरती पर धर्म-ध्वजा फहरावांला         
शुर वीरां री धरती पर वीरां रो मान बढ़ावांला 
                                    गांव-गांव ढाणी ढाणी आखर अलख जगावांला  
                                    साफ़ सफाई राखाळा धरती ने स्वर्ग बणावांला
सगळा  ने काम मिलै ऐसी तजबीज बनावांला
दिन में ईद रात दीवाली घर-घर मायं मनावांला 

                                   ऊँच-नींच और जात-पाँत ने मिल कर दूर भगावांला
                                   टाबरियां न पढ़ा लिखा लव कुश सा निडर बणावांला
 सगळा ने मुफ्त इलाज़ मिलै इस्यो देश बनावांला                                                                             
 सोने री चिड़िया भारत ने अब पाछो नाम दिरावालां। 

No comments:

Post a Comment