Monday, November 3, 2014

मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया



मेरे जीवन का ख्व्वाब टूट गया
मेरे दिल का गुलशन उजड़ गया
मेरे जीवन साथी तुम बिछुड़ गए
मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरी खुशियों का सूरज डूब गया
मेरी बहारों का मौसम गुजर गया
मेरे हमसफ़र तुम ओज़ल हो गए
मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरी मुहब्बत का चिराग बुझ गया
मेरी आशाओं का महल ढह गया
मेरे हमराही तुम  वादा तोड़ गए
मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।

मेरा मधुमयी मधुमास बीत गया
मेरे जीवन का चापल्य रीत गया
मेरे मधुबन के पाहुन तुम चले गए
मेरे ख़्वाबों का चमन उजड़ गया।





















No comments:

Post a Comment