Tuesday, September 16, 2014

मेरे मन की कौन सुनेगा

  
हर दम तेरी आती यादें
मन में उमड़े सारी बातें    
तन्हाई के इस जीवन में  
कौन प्यार की बात करेगा     

  मेरा दिल अब टूट गया है                                                       
   मेरे मन की कौन सुनेगा                                                      

  मैं दुःख के दरिया में जीता   
    अपने अश्रु जल को पीता   
 जीवन की इस अर्द्धरात्रि में        
  दीपोत्सव अब कौन करेगा  

                                            मेरा दिल अब टूट गया है 
                                             मेरे मन की कौन सुनेगा।    

     सोते-उठते तुम्हें पुकारूँ          
सपनों में अब तुम्हें निहारूँ       
     कैसे जीवन अब काटूंगा       
   इसकी चिंता कौन करेगा     

                                            मेरा दिल अब टूट गया है 
                                              मेरे मन की कौन सुनेगा।     

   मेरे सारे ख्वाब थे तुमसे       
    आँखों में सपने थे तुमसे     
   मेरी जीवन की नैया को     
    कौन खेवैया पार करेगा   

                                           मेरा दिल अब टूट गया है
                                             मेरे मन की कौन सुनेगा।        











5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 17 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. वाह.. बेहतरीन रचना है

    ReplyDelete
  3. आप सभी का ह्रदय से आभार।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया सर!

    सादर

    ReplyDelete