Tuesday, September 2, 2014

हसरतें अधूरी रह गई मेरी

नेह भरे थे नयन तुम्हारे
        चितवन से मृग भी थे हारे
                 गीत लिखे थे तुम पर मैंने
                          अपने  स्वर में गाए तुमने

जब तक संग तुम्हारा था 
        जीवन बचपन लगता था 
                   अब तो जीवन संध्या है
                           कुछ  ही दिन का मेला है

जब जब याद तुम्हारी आती
          कंठ रुँध, आँखे  भर आती
                  मरुभूमि बन गयी जिंदगी
                           सपने सी खो गयी बंदगी 

बिना तुम्हारे रह नहीं पाता
        अपना दर्द मैं कह नहीं पाता
                  खुशियां सारी खो गई मेरी
                        हसरतें अधूरी रह गई मेरी। 
                   
               



No comments:

Post a Comment