Monday, May 31, 2010

ननिहाल



मई महीना  आते ही              
गर्मी जब बढ जाती है |
नानी के घर  जाने की              
जल्दी हमें सताती  है ||

लम्बी छुट्टी  होते ही  सब        
      नानी के घर जाते है|
नानी के संग चौपाटी में            
    भेल-पूरी हम खाते हैं ||

नानी दिन भर हम सबको             
           खेल अनेक खिलाती है|
जूहू बीच  पर  पुचका खाने           
            साथ   हमें ले जाती है ||

मामी मेरी प्यारी-प्यारी           
             देती गुडिया   नई- नई|
इसीलिए लगती हैं हमको          
               प्यारी-प्यारी   मुंबई ||

छुट्टिया  खत्म होते ही           
           वापिस घर आजाते हैं|
अगली छुटी में  आयेंगे           
           नानी को कह  आते हैं||



सुजानगढ़
३१  मई, २०१०


(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित  है )

No comments:

Post a Comment