Saturday, May 15, 2010

कौवे का श्राद्ध




एक कौवे ने
अपने पूर्वजो का
श्राद्ध कर्म करने का
मन बनाया। 

 मंदिर वाले पेड़ के
 पंडित कौवे को
श्राद्ध कर्म करने के लिए
 बुलाया। 


विधि-विधानुसार
पंडित कौवे ने एक पिंड
बनवाया और पीपल के पेड़
के नीचे  रखवाया। 

एक बूढा
 भिखारी उधर से निकला
 उसने पिंड को देखा
और खा लिया। 

पेड़ से कोवा
चिल्लाया - श्राद्ध पूर्ण हुवा
अभ्यागत ने भोजन
 ग्रहण कर लिया। 

सभी कौओं ने 
आसमान की तरफ देखा
श्रद्धा से उनकी आँखों से 
अश्रु टपक पड़े। 


सुजानगढ़                                                                                                                                          
14 मई, 2010                                                                                                                                         

                                     ( यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )                                
                                                                                                    

No comments:

Post a Comment