Thursday, June 3, 2010

मतीरो


धोरां री धरती रो मेवो
मीठो गटक मतीरो। 

हरी- हरी बेलां पर लागे            
                      जाणै पन्ना जड़िया।          
           धोरा मांई  गुड-गुड ज्यावै                  
                   ज्यूँ अमरित रा घड़िया।        
           
फोड़ मतीरो खुपरी खावे,                  
         लागे अमरित सो मीठो। 
     गरमी का तपता मौसम में,               
             ओ करे कालजो ठंडो। 

कुचर-कुचर ने खुपरी खावे,             
             मिसरी ज्यूँ  मीठो पाणी। 
भूख मिटावे -प्यास बुझावे,           
            गंगा जल  सो ठंडो पांणी। 


सुजानगढ़
३ जून,२०१०
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment