Tuesday, June 15, 2010

बरखा आई .


घनघोर घटा काली घिर आई,
बहने     लगी   हवा   पुरवाई,
बादल  में   बिजली चमकाई,
मतवाली बरखा  ऋतु  आई,
                                छम छमा छम बरखा आई|

झम-झम कर बूंदे  छहराई,
सोंधी खुशबू  माटी से  आई,
भीग चुनरिया तन लपटाई,
महक  उठी  देह   महुआइ',.
                                छम छमा छम बरखा आई|

अमृतघट  प़ी धरती मुस्काई,
कोयल  ने मीठी तान सुनाई,
झूला  झूल   रही   तरुनाई,  
मीत  मिलन  की  बेला आई,
                                  छम छमा छम बरखा आई|

मेंढ़क ने  मेघ मल्हार लगाई,
इन्द्रधनुसी  छटा     लहराई.
मिटी    उमस  पवन  ठंडाई,
मतवाली बरखा ऋतु आई.
                                  छम छमा   छम बरखा आई|

पिहु पिहु पपिहा  ने धुन गाई,
कजली  खेतो  में लगी सुनाई,
मस्तानी      वर्षा     ऋतु  आई
झूम बदरिया घिर  घिर आई,
                                   छम  छमा  छम  बरखा आई|
सुजानगढ़
१५ जून,2010

(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment