Monday, June 7, 2010

आशाएं




रख भरोसा प्रभु चरणों में,           
              हमको  आगे बढ़ना है। 
जीवन  के  हर एक   पल को        
              हमें  ख़ुशी से जीना  है। 


राहें सीधी हो या टेढ़ी,                
               हँसना है मुस्काना है। 
संकट तो आते-जाते हैं,             
             इनसे क्या घबराना है। 


हिम्मत के बल आगे बढ़,             
       जीवन में खुशिया लानी हैं। 
आशाओं  के दीप जला कर ,       
                 रोशन राहें   करनी है। 


चाहे जितनी  हो बाधायें,              
               हमको चलते जाना है। 
दुःख से ही  सुख आता है,           
          जीवन का यही तराना है। 


जीते हैं मरने वाले ही,               
             दिल में यह विश्वास  रखें।  
हार गए तो भी क्या होगा,         
             दिल में जय की आश  रखें। 

सुजानगढ़
७ जून, २०१०

(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment