Thursday, December 27, 2012

मानवता बच जायेगी




आकाश के
दिलकश नजारों को
प्रदुषण ने छिन लिया।

रातों की
नींद को ट्रकों की
चिलपों ने छिन लिया।

फलों का
स्वाद फर्टिलाईजर 
ने छिन लिया।

बच्चों  के
बचपन को होमवर्क
ने छिन लिया।

परिवार की
  एकता को महंगाई   
 ने छिन लिया।

दादी की
कहानियों को टी वी
 ने छिन लिया।

पक्षियों के
कलरव को टावरों
ने छिन लिया।

आपसी प्यार को
 अहम् की संकीर्णता
 ने छिन लिया।

दुनिया के अमन
चैन को आतंकवाद
 ने छिन लिया।

देर सवेर सही
 लेकिन यह बात समझ
में आयेगी।

जीतनी जल्दी
समझ में आएगी
मानवता बच जायेगी। 

No comments:

Post a Comment