Monday, December 28, 2015

तकिया भीगता रहा रात भर

पलकों में यादें तरसाती रही रात भर                                                                                            
        नयनों में आस ललसाती रही रात भर  
             विरह में मन तड़पता रहा रात भर  
        यादों में करवटें बदलता रहा रात भर।   
                                                                                        
                                                            राहों में पलकें बिछाता रहा रात भर     
                                                           टूटते ख़्वाबो को देखता रहा रात भर 
                                                           दर्द भरे गीत गुनगुनाता रहा रात भर 
                                                          आरजू का दिया जलाता रहा रात भर। 

  विछोह के दर्द को पीता रहा रात भर   
  आसमान में तारे गिनता रहा रात भर 
  बिखरे अरमान समेटता रहा रात भर 
तन्हाई के गीत गुनगुनाता रहा रात भर। 
     

                                                              मिलन का इन्तजार करता रहा रात भर      
                                                               टूटती सांसो को संभालता रहा रात भर        
                                                               यादों से दिल को बहलाता रहा रात भर         
                                                                सिर निचे तकिया भीगता रहा रात भर।                                                                                    
 
   


No comments:

Post a Comment