Saturday, November 7, 2009

गर्मी की रातें



गाँव में
गर्मियों के दिनों में
छत पर पानी डाल कर
ठंडा कर दिया करते थे |


शाम का
धुंधलका होते ही
छत पर चले जाते थे |

बिस्तर पर
लेटे-लेटे खुले आसमान में
 चाँद में चरखा कातती बुढ़िया को
देखा करते।

चाँद के सरासर
सामने सप्तऋषियों को बाँधने
और तारों को फँसाने का
गुमान करते। 

रात में तारो की बरात
और टूटते तारो का नजारा
देखना अच्छा लगता।

ये सब 
करते-करते
कब नींद आ जाती
पता भी नही लगता। 

अब रात को
आसमान की जगह
केवल कमरे की छत
दिखाई देती है।

लेटे-लेटे
गाँव की सुनहरी
 यादो में खो जाता हूँ,
अब भी सपने में घर की
   छत दिखाई देती है।  


कोलकत्ता     
७ नवम्बर, 2009

(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment