Sunday, November 22, 2009

सियालो



सियाला में सी पङै जी ढोला,         
                 सूरज निकल्यो  बादल में |
पीला  पड़ गया खेत भंवरजी,         
                         सरसों फूली खेतां में ||

डूंगर ऊपर मोर ठिठरग्या,            
                    पालो जमग्यो हांडी में  |
  छोरा-छोरी सिंया मरग्या,              
                 सोपो पड्ग्यो सिंझ्या  में    ||

  चिड़ी-कमेड़ी ठांठर मरती |            
                 जाकर घुसगी आळा में ||
   बुड्ढा-बडेरा थर-थर धूजै,         
                 जाकर बङग्या गुदडा में ||

अमुवा की डाली पर बैठी,           
                        कोयल बोली बागा  में  |
बेगा आवो बालम म्हारा,            
                      गौरी उडीके महलां  में  ||


कोलकत्ता
२१ नवम्बर, २००९
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment