Friday, October 1, 2010

स्पर्श



शिशु के बदन पर माँ
के हाथ का ममतामयी स्पर्श

प्रणय बेला में नववधू
के हाथ का रोमांच भरा स्पर्श

पेड़ो पर झूलती लताओं
का आलिंगनपूर्ण स्पर्श

पहाड़ो पर मंडराते बादलों
का प्यार भरा स्पर्श

हँसती खिलखिलाती नदी  का
 सागर में समर्पण  का स्पर्श

गुलशन  में गुनगुनाते भंवरों  
का फूलों  से  मधुमय स्पर्श

मानसरोवर  के स्वर्णिम कमलों  पर
 तुहिन कणों का स्पर्श

दुनिया के कोमलतम
     स्पर्श की कहानी कहते हैं। 

कोलकत्ता
१ अक्टुम्बर, २०१०
(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

8 comments:

  1. बहुत कोमल स एहसास कराता लगा यह स्पर्श

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 5-10 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर लिखा है।

    ReplyDelete
  4. http://charchamanch.blogspot.com/2010/10/19-297.html

    यहाँ भी आयें .

    ReplyDelete
  5. kavita manch par meri kavita lene ke liye aapka bahut bahut dhanywad. aasha hai aap aage bhi ishi tarah se utsahavardhan karti rahengi. ek bar phir dhanywad.

    ReplyDelete
  6. prtikriya dene ke liye aap sabhi ka dhanywad. aap mere blog SANTAM SUKHAYA me bhi visit karke mujhe apni prtikriya de to mujhe khushi hogi.

    ReplyDelete