Thursday, April 7, 2011

बुढापा रो सियालो (राजस्थानी कविता)



सियाला की रातां
काली पीली रातां

सी पङै  मोकलो
काँई करै डोकरो

हाड- हाड काँप ज्याव
 नसां में लोही जम ज्याव

थर थर कांपतो
गुदङा  ने दबातो रात काटे

चिड़कल्यां री चीं- चीं  सुण
डरतो डरतो मुंडो बार  काढ़े

अगुणा में उजास देख
जी में जी आवै

सियाला की रातां
        दोरी  घणीं  जावै  |     

कोलकत्ता                                                                                                                                    ७  अप्रेल, २o११                                                                                                                                                                                                            
 (यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )
,







No comments:

Post a Comment