Monday, June 13, 2016

बिना कहे तुम चली गई।

    मेरे जीवन की राहों में
  बहार बन कर तुम आई,
   मेरे जीवन के सागर में                    
लहर-लहर पर तुम छाई।

प्रीत तुम्हारी अमृत जैसी                                                    
गंगा जल सी सदा बही,                                                
 अधरों की मुस्कान तुम्हारी                                                      
 मेरे संग में सदा रही।                                             

   साँझ ढल अब जीवन में
   बिच राह तुम चली गई,
साथ चले थे राह-सफर में
अब राहे सुनसान हो गई।

सुख की सारी सुन्दर बातें                                                        
मेरे जीवन से निकल गई                                                      
सूनापन है बिना तुम्हारे                                                     
सारी खुशियाँ चली गई।                                                    

      रिश्ते सब अंजान हो गए
        जब से तुम परधाम गई,
अब न मिलेंगे किसी मोड़ पर
       बिना कहे तुम चली गई।






No comments:

Post a Comment