Monday, May 30, 2011

पर्यावरण

 


गौरव बोला कौए से          
                      काँव काँव क्यों करते हो ?
कोयल जैसी  मीठी वाणी       
                    तुम क्यों नहीं बोलते हो ?

कौआ बोला कैसे बोलूँ             
                         मै अब मीठी वाणी में | 
    हक़ छीन लिया तुमने मेरा            
               वृक्ष काट दिए जंगल में |

हम भी प्राणी तुम भी प्राणी      
               फिर क्योकी तुमने मनमानी |
  जंगल काट सुखा दिया पानी        
                    क्योकि तुमने  ये  नादानी |

इसीलिए मै कर्कश स्वर में       
                   खुली शिकायत करता हूँ |
ऊँचे स्वर में चिल्ला क़रके          
                           अपनी माँगें रखता हूँ   | 

मत काटो  पेड़ों को अब              
                     पर्यावरण   बचाओ  तुम |
जीवन  रक्षक पेड़  हमारे,            
                समझो  और समझावो तुम |



कोलकत्ता
३० मई , 2011
(यह कविता "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )




No comments:

Post a Comment