Sunday, February 8, 2015

मेरी जिंदगी में



चाँद की चांदनी बन
तुम मुस्कराई
मेरी जिंदगी में

सूरज की रोशनी बन
तुम जगमगाई
मेरी जिंदगी में

फूलों का सौरभ बन
तुम महकी
मेरी जिंदगी में।

सावन की बरखा बन
तुम बरसी
मेरी जिंदगी में

प्यार का गीत गुनगुना
तुम तराना बनी
मेरी जिंदगी में।











No comments:

Post a Comment