Wednesday, March 4, 2015

मुझे तुम याद आई

  भीगे मौसम की अंगड़ाई ले कर होली आई 
कोयल गाने लगी मल्हार, मुझे तुम याद आई।

                                                     अबीर-गुलाल उड़ाते हुए, आज होली आई 
                                                      होली के रंग देखते ही, मुझे तुम याद आई।                                                         

झंकृत हो उठा मन उपवन,  होली आई 
बासंती वसुंधरा देख, मुझे तुम याद आई।

                                                       हूरियारों की टोली, जब रंग ले कर आई
                                                       हाथों में गुलाल देख, मुझे तुम याद आई।

छत पर बिछी खाट पर चाँदनी छिटक आई 
बेशर्म चाँद ताकता रहा, मुझे तुम याद आई।

                                                    आमों के बौर मह उठे, कोयलिया पगलाई   
                                                    महकती अमराई देख, मुझे तुम याद आई।











No comments:

Post a Comment