Friday, March 25, 2016

समा जाओ मेरी बाहों में

सरसों झूम रही है खेतों में
आम्र मंजरी महक उठी है बागों में            
अनुरागी भंवरा ढूंढ़ रहा कलियों को               
कोयलियां कुक रही है कुंजों में      

       मुस्करा कर ऋतुराज 
भर रहा बसंत को बाहों में 
     रंग-रंग के फूल खिले हैं  
         आज मिलन की राहों में      
   
         बना रंगोली फूलों की   
    धरती चली दुल्हन बनने
लताऐं कर रही आलिंगन पेड़ों का            
 गौरैया फुदक रही है आँगन में        

         लौट आओ तुम भी
                         बसंत की तरह      
              आकर एक बार फिर से            


      समा जाओ मेरी बाहों में।   






No comments:

Post a Comment