Friday, April 7, 2017

मेरी आँखों में सावन-भादो उत्तर गया

   मेरे जीवन में पायल की झनक नहीं रही    
    मेरे जीवन में फूलों की खुशबु नहीं रही
     मेरा सूरज सिंदूरी सांध्यवन में खो गया 
      मेरी आँखों में सावन-भादो उत्तर गया।  

                                                          मेरी पलकों में सुनहरा स्वप्न नहीं रहा  
                                                         मेरे होठों पर प्यार भरा गीत नहीं रहा
                                                          मेरे जीवन का मंगल गान बिसर गया 
                                                         मेरी आँखों में सावन-भादो उत्तर गया।  

    मेरे  जीवन में सुनहरी रातें नहीं रही 
   मेरे जीवन में कोई खुशियां नहीं रही  
   मेरे जीवन में घनघोर अँधेरा छा गया 
 मेरी आँखों में सावन-भादो उत्तर गया।  

 मेरी पलकों में कोई तमन्नाएँ नहीं रही                                                   
  मेरे दिल में कोई आशाएँ  नहीं रही                                                   
           जीवन से बहारों का काफिला गुजर गया                                                   
                                            मेरी आँखों में सावन-भादो उत्तर गया।                                                 







                 

                                                    
                                      

No comments:

Post a Comment