Tuesday, April 18, 2017

ममता की मूरत

तुम
बदली बन बरसती रही
करती रही प्यार की
बरसात सभी पर।

तुम
जलधारा बन बहती रही
छलकाती रही
प्रेम-रस सभी पर।

तुम
लोरी बन गाती रही
लहराती रही
प्यार का आँचल
सभी पर।

तुम
किरण बन चमकती रही
लुटाती रही चांदनी
सभी पर।

तुम
ममता की मूरत बन झरती रही
बहाती रही स्नेह की धारा
सभी पर।







No comments:

Post a Comment