Tuesday, July 20, 2010

अन्तर


तुलसीदास जी
अपनी पत्नी से
बहुत प्रेम करते थे

लेकिन पत्नी के
व्यंग बाणों से आहत हो
घर छोड़ जंगल में चले गये 

निर्वासित जीवन जी कर 
उन्होंने रामचरित मानस
जैसा काब्य लिखा

मै भी
अपनी पत्नी से
बहुत प्रेम करता हूँ

लेकिन पत्नी के
व्यंग बाणों से कभी
विचलित नहीं होता हूँ

वो चाहे जितना भी डांटे
मै अपने कान पर जूं तक
नहीं रेंगने देता हूँ

आराम से घर में बैठ कर 
चाय की चुस्कियों के साथ
कविता रुपी  काब्य
लिखता रहता हूँ।


गीता  भवन  
२० जुलाई , २०१०                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

No comments:

Post a Comment